विंग कमांडर की वतन वापसी पर अटारी-वाघा बॉर्डर पर होने वाली बीटिंग द रिट्रीट सेरेमनी रद्द

बीएसएफ के एक अधिकारी ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि अटारी-वाघा बॉर्डर पर विंग कमांडर की वापसी के मद्देनजर काफी लोग पहले से ही वहां पर मौजूद हैं.

विंग कमांडर की वतन वापसी पर अटारी-वाघा बॉर्डर पर होने वाली बीटिंग द रिट्रीट सेरेमनी रद्द
फाइल फोटो

नई दिल्लीः भारतीय वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन वर्थमान की लगभग 48 घंटे बाद वतन वापसी के मद्देनजर अटारी-वाघा बॉर्डर पर रोजाना होने वाले बीटिंग रिट्रीट कार्यक्रम को रद्द कर दिया गया है. बीएसएफ के एक अधिकारी ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि अटारी-वाघा बॉर्डर पर विंग कमांडर की वापसी के मद्देनजर काफी लोग पहले से ही वहां पर मौजूद हैं. सुरक्षा पहले से ज्यादा सख्त किया गया है. इसलिए सीमा पर होने वाली बीटिंग रिट्रीट को कैंसिल कर दिया गया है. 

आज होगी विंग कमांडर अभिनंदन की वतन वापसी
पायलट अभिनंदन वर्थमान का स्वागत करने के लिए अटारी संयुक्त जांच चौकी (जेसीपी) पर शुक्रवार को भारी संख्या में लोग जुटे हैं. अभिनंदन को आज(शुक्रवार को) पाकिस्तानी अधिकारियों द्वारा रिहा किया जाएगा. अटारी में लोगों का सुबह छह बजे से ही पहुंचना शुरू हो गया और सुबह नौ बजे तक लोगों का हुजूम उमड़ आया. 

तिरंगा लेकर अटारी बॉर्डर पहुंचे लोग
अपने दोस्तों के साथ यहां पहुंचे अमृसतसर के रहने वाले जितेंद्र ने कहा, "हम यहां अपने देश के नायक की घर वापसी पर उसका स्वागत करने के लिए आए हैं. हम उसका भव्य स्वागत करेंगे. उसने हवाई लड़ाई में बहुत बहादुरी दिखाई और पाकिस्तानियों के कब्जे में होने के बाद भी दिलेरी दिखाई." अभिनंदन के माता-पिता, एयर मार्शल एस. वर्थमान (सेवानिवृत्त) और मां शोभा वर्थमान जो एक डॉक्टर हैं उनका गुरुवार शाम चेन्नई से नई दिल्ली जाने वाली एक फ्लाइट में यात्रियों द्वारा उत्साहवर्धन किया गया. दोनों के बेटे के स्वदेश वापसी के मौके पर अटारी में होने की उम्मीद है.

35 वर्षीय विंग कमांडर जम्मू एवं कश्मीर में नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पास पाकिस्तानी वायुसेना के जेट विमानों द्वारा उनके मिग-21 बाइसन फाइटर जेट को निशाना बनाए जाने के बाद पाकिस्तानी बलों की पकड़ में आ गए थे. सूत्रों ने कहा कि पायलट को पाकिस्तानी अधिकारियों द्वारा रावलपिंडी से लाहौर लाने की संभावना है और शुक्रवार दोपहर जेसीपी लाने से पहले जिनेवा कन्वेंशन के नियमों के तहत रेड क्रॉस (आईसीआरसी) की अंतर्राष्ट्रीय समिति को सौंपे जाने की संभावना है.