जमशेदपुर के MGM में अब विदेशों की तर्ज पर मरीजों को मिलेगी सुविधा, 100 बेड का मॉड्यूलर इमरजेंसी वार्ड बनकर तैयार

झारखंड में पहली बार जमशेदपुर के MGM अस्पताल में 100 बेड का मॉड्यूलर इमरजेंसी वार्ड शुरू किया गया है.

जमशेदपुर के MGM में अब विदेशों की तर्ज पर मरीजों को मिलेगी सुविधा, 100 बेड का मॉड्यूलर इमरजेंसी वार्ड बनकर तैयार
जमशेदपुर के MGM में 100 बेड का मॉड्यूलर वार्ड तैयार.

Jamshedpur: जमशेदपुर के MGM अस्पताल में अब मरीजों को विदेशों की तर्ज पर सुविधाएं मिलेंगी. MGM अस्पताल में 100 बेड का मॉड्यूलर इमरजेंसी वार्ड बन कर तैयार है. आधुनिक सुविधाओं से लैस इस लघु अस्पताल को कहीं भी शिफ्ट किया जा सकता है.

20 दिनों में तैयार किया गया वार्ड
झारखंड में पहली बार जमशेदपुर के MGM अस्पताल में 100 बेड का मॉड्यूलर इमरजेंसी वार्ड शुरू किया गया है. हवा भर कर गुब्बारे की तरह बनाए गए इस वार्ड की लाइफ 10 से 15 साल रहेगी. कोरोना की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए इसे महज 20 दिनों में तैयार किया गया है. यह मॉड्यूलर इमरजेंसी वार्ड स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता की देखरेख में तैयार किया जा रहा है.

ये भी पढ़ें: जमशेदपुर को कब मिलेगी ट्रैफिक जाम से मुक्ति? मानगो से 10 मिनट का रास्ता घंटों में होता है पूरा

अमेरिकन-इंडिया फाउंडेशन के सहयोग से तैयार
MGM अस्पताल में बने इस इमरजेंसी वार्ड को अमेरिकन-इंडिया फाउंडेशन के सहयोग से तैयार किया गया है. एजेंसी को पोर्टेबल और प्रीस्ट्रक्चर अस्पताल बनाने में महारत हासिल है. वार्ड का बाहरी ढांचा 15 से 20 दिनों में तैयार किया गया है. एजेंसी के 30 टेक्निशियन और कर्मचारी वार्ड को अंतिम रुप देने में जुटे हैं. बेड और अन्य सुविधाएं बहाल की जा रही हैं, और जल्द ही इस वार्ड को MGM अस्पताल प्रबंधन को सौंप दिया जाएगा. जिसके बाद स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता इसका उद्घाटन करेंगे.

4 गुब्बारों में बना अत्याधुनिक इमरजेंसी वार्ड
4 गुब्बारों में बने इस अत्याधुनिक इमरजेंसी वार्ड में 100 बेड की व्यवस्था की गयी है. 100 बेड में से 40 बेड ऑक्सीजन से लैस हैं, जबकि 16 ICU बेड होंगे और बाकी सामान्य बेड होंगे. वार्ड के पहले एक रिसेप्शन काउंडर बना है, जिसमें 24 घंटे मरीजों के भर्ती के लिए कर्मचारी मौजूद रहेंगे, सभी वार्डों में मरीजों और डॉक्टरों के लिए अलग-अलग शौचालय बनाया गया है. वार्ड में 24 घंटे के लिए 15 डॉक्टर और नर्स की टीम मौजूद भी होगी. यह पूरा वार्ड वातानुकूलित होगा. यहां बच्चों के साथ बड़ों का भी इलाज होगा.

ये भी पढ़ें: 24 सितंबर से खुलेंगे कक्षा 6 से 8वीं तक के स्कूल, यहां पढ़ें जरूरी जानकारी

मरीजों को होगा बहुत फायदा
MGM अस्पताल में रोजाना दूर-दराज से लगभग 1500 मरीज आते हैं. जिनका इलाज करना अस्पताल प्रबंधन के लिए बड़ी समस्या बनी रहती थी, लेकिन नए बने इमरजेंसी वार्ड के शुरू होते ही मरीजों को इसका बहुत फायदा मिलेगा.

(इनपुट: आशीष कुमार तिवारी)