Breaking News
  • सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि प्राइवेट लैब को कोरोना जांच के लिए टेस्ट फीस लेने की अनुमति नहीं होनी चाहिए
  • मुंबई के बांद्रा के भाभा अस्पताल की 15 नर्सों को क्‍वारंटाइन किया गया
  • कोरोना के बीच डॉक्टरों और मेडिकल स्टाफ की सुरक्षा का मामला, सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि ये लोग योद्धा हैं

चेतावनी: इस संस्था ने किया चौंकाने वाला दावा! भारत में हो सकते हैं 40 करोड़ से ज्यादा कोरोना वायरस पॉजिटिव

जब संक्रमण अपने  चरम पर होगा तो देश में 40 करोड़ से ज्यादा लोग Coronavirus से प्रभावित होंगे

चेतावनी: इस संस्था ने किया चौंकाने वाला दावा! भारत में हो सकते हैं 40 करोड़ से ज्यादा कोरोना वायरस पॉजिटिव
फाइल फोटो

नई दिल्ली: अगर आप सोच रहे हैं कि कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण से बचाने के लिए लॉकडाउन (Lockdown) एकमात्र सटीक उपाय है तो आप गलत हैं. एक अंतरराष्ट्रीय संस्था ने दावा किया है कि भारत में अभी तो कोरोना वायरस संक्रमण ने पैर रखा ही है. जब ये अपने चरम पर होगा तो देश में 40 करोड़ से ज्यादा लोग कोरोना वायरस संक्रमण से प्रभावित हो जाएंगे. बताते चलें कि प्रधानमंत्री (Prime Minister) नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने देश को कोरोना वायरस से बचाने के लिए देश में 21 दिनों का लॉकडाउन  घोषित किया है.

अमेरिका के वाशिंगटन में स्थित सेंटर फॉर डिजिज डायनामिक्स, इकॉनोमी एंड पॉलिसी (CDDEP) ने अपनी ताजा रिपोर्ट में खुलासा किया है कि भारत में सिर्फ लॉकडाउन कोई एकमात्र रोकथाम नहीं हो सकता. अगर लोग एक दूसरे से मेल-मुलाकात बंद नहीं करते हैं तो इसके काफी गंभीर नतीजे सामने आएंगे. CDDEP ने दावा किया है कि अगर ऐसे हालात रहे तो भारत में जुलाई महीने तक 30-40 करोड़ लोग कोरोना वायरस से प्रभावित हो सकते हैं. करोड़ों लोगों पर कोरोना वायरस का गंभीर हमला होगा जबकि 20-40 लाख लोगों को अस्पताल में भर्ती कराने की जरूरत होगी.

CDDEP के डायरेक्टर डॉ. रामानन लक्ष्मीनारायाण ने ज़ी न्यूज़ डिजिटल से बातचीत में बताया कि भारत में अभी कोरोना वायरस ने सिर्फ कदम भर रखा है. लॉकडाउन बचाव का एक तरीका जरूर है लेकिन ये एक फूलप्रूफ व्यवस्था नहीं है. अभी देश में 10 लाख लोगों में से मात्र 15 लोगों की वायरस जांच हो पा रही है. जबकि देश के बहुत सारे लोगों को संक्रमण का खतरा लग रहा है. एक बार सभी नागरिकों तक जांच सुविधा उपलब्ध कराने के बाद ही कोरोना वायरस के सटीक संख्या का पता चल सकता है.

ये भी पढ़ें: आस्था के आगे लॉकडाउन पस्त: नवरात्रि की वजह से मंदिरों में लग रही भीड़

अभी सिर्फ अमीरों की बीमारी है लेकिन गरीब भी दूर नहीं
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि अभी कोरोना वायरस सिर्फ अमीरों की बीमारी है. यानि अभी वही लोग कोरोना वायरस से प्रभावित हैं जो हाल ही में विदेशों से लौटे हैं. लेकिन धीरे-धीरे ये संक्रमण नीचे के तबको में पहुंचना शुरू होगा. हम भले कह रहे हों कि स्टेज3 या स्टेज4 में ही ब्रेक लगा कर इसे रोका जा सकता है. लेकिन भारत के संदर्भ में अभी स्टेज 3-4 आया ही नहीं है.

उल्लेखनीय है कि भारत में अब तक कोरोना वायरस के 727 मामले सामे आ चुके हैं. इनमें से लगभग 16 लोगों की मौत हो चुकी है. जबकि 44 लोग इससे ठीक हो चुके हैं.