कोरोना से लड़ने के लिए भारतीय रेलवे ने तैयार किया कम कीमत का वेंटिलेटर, ICMR से मंजूरी मिलना बाकी

भारतीय रेलवे ने देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण के प्रसार के बीच एक ऐसा सस्ता वेंटिलेटर तैयार किया है, जो हजारों लोगों की जान बचाने में उपयोगी हो सकता है.

कोरोना से लड़ने के लिए भारतीय रेलवे ने तैयार किया कम कीमत का वेंटिलेटर, ICMR से मंजूरी मिलना बाकी
फाइल फोटो

नई दिल्ली: देश में कोरोना संक्रमण से निपटने में लगे स्वास्थ्य कर्मचारियों के लिए और कम्युनिटी वर्कर के लिए आवश्यक किट पर्सनल प्रोटेक्शन इक्विपमेंट यानी पीपई रेलवे ने भी तैयार करना शुरू कर दिया है. देश में संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए पीपीई किट की भी डिमांड जोरों पर है. रेलवे इसको बड़े पैमाने पर तैयार करने जा रहा है जिससे देश में किट की उपलब्धता तेजी से बढ़ेगी. 

उत्तर रेलवे के प्रवक्ता दीपक कुमार के मुताबिक रविवार को रेलवे की जगाधरी वर्कशॉप में तैयार दो पीपीई किट को डीआरडीओ ने तमाम तकनीकी पहलुओं पर अध्ययन करने के बाद मंजूरी दे दी है. अब रेलवे किट का उत्पादन बड़े पैमाने पर कर सकता है. रेल मंत्रालय के अधिकारियों के मुताबिक भारतीय रेलवे के जोनल वर्कशॉप में जो प्रोडक्शन यूनिट हैं, उनमें पीपीई किट तैयार होनी शुरू हो गई है. 

रेलवे का कहना है कि अभी 100 पीपीई किट हर दिन तैयार  होनी शुरू हो जाएगी और आगे देश की दूसरी यूनिट्स में निर्णय शुरू होने के बाद इसकी संख्या में बढ़ोत्तरी होगी. देश में पीपीई किट की भारी-भरकम मांग को देखते हुए रेलवे ने इसको तैयार करने का बीड़ा उठाया है. स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से पहले ही तमाम देश की अलग-अलग यूनिट को इस तरह के उत्पादन करने को कहा गया था. रेल मंत्रालय के प्रवक्ता राजेश दत्त वाजपेई के मुताबिक वोट से तमाम जोनल वर्कशॉप को निर्देश दिए जा चुके हैं. जहां-जहां प्रोडक्शन यूनिट हैं, वहां से पीपीई किट तैयार होना शुरू हो जाएगी. इससे देश में इस किट की जो संकट है, उसको दूर किया जा सकेगा.

देशभर में हर दिन लगातार सैकड़ों की संख्या में कोरोना संक्रमण के मामले सामने आ रहे हैं. लिहाजा, स्वास्थ्य कर्मचारियों की चुनौती भी बढ़ती जा रही है. इस लिहाज से देखा जाए तो रेलवे की यह सफलता एक बड़ी राहत लेकर आई है जिससे देश में पीपीई किट की उपलब्धता पर्याप्त मात्रा में हो सकेगी.