'हुदहुद' के प्रभाव से जूझ रहा आंध्र प्रदेश, लाखों लोग हुए बेघर

चक्रवात के कमजोर पड़ने और इसके उत्तर-पश्चिमी दिशा में बढ़ जाने के बाद आंध्र प्रदेश सोमवार को इसके परिणामों से जूझ रहा है। यह अपने पीछे तबाही का मंजर छोड़ गया है। आवश्यक वस्तुओं की कमी का सामना कर रहे प्रभावित तीन जिलों में मकान नष्ट हो जाने से बहुत से लोग बेघर हो गए हैं।

'हुदहुद' के प्रभाव से जूझ रहा आंध्र प्रदेश, लाखों लोग हुए बेघर

विशाखापत्तनम : चक्रवात के कमजोर पड़ने और इसके उत्तर-पश्चिमी दिशा में बढ़ जाने के बाद आंध्र प्रदेश सोमवार को इसके परिणामों से जूझ रहा है। यह अपने पीछे तबाही का मंजर छोड़ गया है। आवश्यक वस्तुओं की कमी का सामना कर रहे प्रभावित तीन जिलों में मकान नष्ट हो जाने से बहुत से लोग बेघर हो गए हैं।

विशाखापत्तनम, श्रीकाकुलम और विजियानगरम जिलों तथा ओड़िशा के कुछ भागों में भारी से अत्यंत भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। छत्तीसगढ़ की तरफ बढ़ने से पहले चक्रवात से आठ लोगों की मौत हो गई। आंध्र प्रदेश में चक्रवात से 44 मंडलों के 320 गांवों में 2.48 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं। खतरे वाले इलाकों से 1,35,262 लोगों को निकालकर 223 राहत केंद्रों में पहुंचाया गया।

चक्रवात रविवार को विशाखापत्तनम के नजदीक टकराया था। शहर में तबाही की तस्वीरें हैं जहां चक्रवात का भीषण असर हुआ है। सैकड़ों पेड़ों और खंभों के उखड़ जाने तथा अन्य मलबे से सड़के अवरुद्ध हो गईं। 200 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चली हवाओं से शहर में मकानों की छतें और होडिर्ंग्स उखड़ गए। प्रभावित एक व्यक्ति ने कहा कि बिजली नहीं है, पानी नहीं है, दूध भी नहीं है। हमें पेट्रोल भी नहीं मिल रहा। हम सड़कों पर नहीं चल सकते। यहां एक दिन गुजारना भी मुश्किल है।

चक्रवात से प्रभावित क्षेत्रों में जल एवं विद्युत आपूर्ति ठप हो गई है तथा संचार व्यवस्था भी तबाह हो गई है। चक्रवात से पहुंचे नुकसान के चलते ज्यादातर पेट्रोल पंप बंद हैं। आज थोड़े-बहुत जो पेट्रोल पंप खुले, वहां लोगों की लंबी कतारें देखी गईं। हवाईअड्डा तथा रेलवे को भारी बारिश और तेज हवाओं से जबर्दस्त नुकसान हुआ है। राज्य सरकार ने नुकसान के आकलन के लिए व्यापक प्रक्रिया शुरू कर दी है। मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू ने हैदराबाद स्थित राष्ट्रीय दूरस्थ संवेदी केंद्र को नुकसान का ब्यौरा अपडेट करने के लिए जीओ-टैगिंग के इस्तेमाल का निर्देश दिया है।

वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्थिति का जायजा लेने के लिए मंगलवार को विशाखापत्तनम पहुंचेंगे। वहीं, मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू के मंत्रिमंडल के सदस्यों के शहर में ही मौजूद रहने की उम्मीद है क्योंकि सरकार प्रभावित जिलों में जनजीवन को फिर से पटरी पर लाने पर ध्यान केंद्रित कर रही है। राज्य के राजस्व (आपदा प्रबंधन) विभाग के अनुसार आंध्र प्रदेश में दीवारों और छतों के गिरने तथा पेड़ों के उखड़ने से पांच लोगों की मौत हुई है। मृतकों में यहां का एक वर्षीय एक बच्चा पी. नाग मनोज भी शामिल है। मौसम विभाग के अनुसार हुदहुद दक्षिणी छत्तीसगढ़ और दक्षिण पश्चिमी ओड़िशा के बेहद करीब केंद्रित है। यह उत्तर-उत्तर पश्चिम की तरफ बढ़ेगा तथा धीरे-धीरे कमजोर हो जाएगा। ओड़िशा में चक्रवात से तीन लोगों की मौत हुई है। ओड़िशा सरकार ने प्रभावित दक्षिणी जिलों में राहत एवं पुनर्वास कार्यों के लिए कमर कस ली है। हुदहुद के चलते राज्य के दक्षिणी इलाकों में मकानों को नुकसान पहुंचा है और पेड़ उखड़ गए हैं।

एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि ऐहतियाती कदम के तहत ओड़िशा में करीब 2.33 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया और 10 जिलों-गजपति, गंजाम, कोरापुट, मल्कानगिरि, पुरी, रायगढ़ा, नबरंगपुर, केंद्रपाड़ा, कालाहांडी और खुर्दा में करीब 2,000 आश्रय केंद्र बनाए गए हैं जहां नि:शुल्क खाना उपलब्ध कराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि स्थिति में सुधार तथा हवाओं की गति कम होने पर इन केंद्रों में रह रहे लोग अपने घरों को लौटने में सक्षम होंगे। कल चक्रवात के चलते ऐहतियात के तौर पर विशाखापत्तनम के लिए सड़क एवं रेल परिवहन सेवा निलंबित कर दी गई थी। राज्य सरकार ने जहां आंध्र प्रदेश और दक्षिणी ओड़िशा के कई जिलों के लिए जाने वाली बसों को रोक दिया था, वहीं रेलवे ने 58 ट्रेनें रद्द कर दी थीं और 50 अन्य का मार्ग बदल दिया था। सूत्रों ने बताया कि कुछ स्थानों पर आज बस सेवा शुरू हो गई और रेलवे भी पालसा तक ट्रेनें चलाने पर विचार कर रहा है।

केंद्रीय मंत्री वैंकेया नायडू ने कहा कि फसलों को नुकसान, क्षतिग्रस्त सड़कों, पुलों, जलाशयों, और रेलवे पटरियों की तस्वीरें भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन :इसरो: द्वारा उपग्रह प्रौद्योगिकी के जरिए उपलब्ध कराई जाएंगी। केंद्र सरकार स्थिति पर करीब से नजर रखे हुए है। प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया, चक्रवात हुदहुद को लेकर लगातार जानकारी ली जा रही है। आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री से बात की है। कल विशाखापत्तनम जाउंगा और स्थिति का जायजा लूंगा।