close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कॉर्बेट बाघ अभयारण्य के नाम से फर्जीवाड़ा कर रहे कंपनियों को नोटिस, 15 वेबसाइट शामिल

कॉर्बेट बाघ अभयारण्य के निदेशक संजीव चतुर्वेदी ने कहा, ‘‘इस प्रकार की 15 वेबसाइटों को नोटिस भेजा गया है. उनसे कहा गया है कि वे कॉर्बेट के नाम पर किए जाने वाले दावे तत्काल हटाएं. ऐसा नहीं करने पर उनके खिलाफ आवश्यक कानूनी कार्रवाई की जाएगी.’’ 

कॉर्बेट बाघ अभयारण्य के नाम से फर्जीवाड़ा कर रहे कंपनियों को नोटिस, 15 वेबसाइट शामिल
बुकिंग कराने के नाम पर लोगों से पैसे लेने वाली 15 वेबसाइट को नोटिस भेजा गया है.

नई दिल्ली: कॉर्बेट बाघ अभयारण्य के अधिकारियों ने फर्जीवाड़ा करके नेशनल पार्क के नाम का इस्तेमाल करने पर कार्रवाई करने के लिए तैयार है. कार्बेट बाघ अभ्यारण्य में बुकिंग कराने के नाम पर लोगों से पैसे लेने वाली 15 वेबसाइट को नोटिस भेजा गया है. 

कॉर्बेट बाघ अभयारण्य के निदेशक संजीव चतुर्वेदी ने कहा, ‘‘इस प्रकार की 15 वेबसाइटों को नोटिस भेजा गया है. उनसे कहा गया है कि वे कॉर्बेट के नाम पर किए जाने वाले दावे तत्काल हटाएं. ऐसा नहीं करने पर उनके खिलाफ आवश्यक कानूनी कार्रवाई की जाएगी.’’ 

उन्होंने कहा कि ‘गोडैडी इंडिया वेब सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड’ को भी नोटिस भेजकर कहा गया है कि वह अपने सर्वर पर मौजूद इस प्रकार की चार फर्जी वेबसाइटों www.jimcorbettnationalpark.co.in, www.jimcorbettbooking.in, www.corbettnationalpark.com और www.corbettnationalpark.in को तत्काल हटाए. 

चतुर्वेदी ने बताया कि बुकिंग के लिए लोग कॉर्बेट बाघ अभयारण्य की वेबसाइट www.corbettonline.uk.gov.in का इस्तेमाल कर सकते हैं. अधिकारियों ने बताया कि ये वेबसाइट फर्जीवाड़े से कॉर्बेट के नाम का इस्तेमाल करके लोगों की बुकिंग करा रही थीं और उन्हें ठग रही थी. अकसर ऐसा होता है कि इन पोर्टल को चलाने वाले लोग पर्यटकों को मुख्य अभयारण्य ले ही नहीं जाते.

कॉर्बेट बाघ अभयारण्य के अधिकारियों ने हाल में फैसला किया है कि अब वे ऐसी किसी सिफारिश पर विचार नहीं करेंगे जिसमें कोई वीआईपी या अधिकारी अभयारण्य में अपने या अपने रिश्तेदारों एवं दोस्तों के ठहरने के इंतजाम या सफारी की सुविधा के लिए कहेगा. इसकी जगह अभयारण्य के अधिकारी इस तरह की सिफारिश भेजने वाले अधिकारियों की शिकायत उनके उच्चाधिकारी से करेंगे. (इनपुट-भाषा)