हिमाचल प्रदेश में शीतलहर, पश्चिमी हवाओं से ठिठुरे पंजाब-हरियाणा

शिमला का न्यूनतम तापमान 5.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.

हिमाचल प्रदेश में शीतलहर, पश्चिमी हवाओं से ठिठुरे पंजाब-हरियाणा
(प्रतीकात्मक फोटो)

शिमला: हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में शनिवार को शीतलहर जारी है. ऊंची पहाड़ियों में कड़ाके की ठंड (cold) है और पारा हिमांक बिंदु तक पहुंच गया है. वहीं पश्चिमी हवाओं ने पंजाब (Punjab) और हरियाणा (Haryana) में ठिठुरन बढ़ा दी है. 

मौसम कार्यालय के एक अधिकारी ने बताया कि सोमवार रात से मध्य और ऊंची पहाड़ियों में बर्फबारी की संभावना है, क्योंकि पश्चिमी विक्षोभ क्षेत्र में आ रहा है. उन्होंने कहा कि शिमला का न्यूनतम तापमान 5.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.

लाहौल और स्पीति जिले के केलांग और किन्नौर जिले के कल्पा में न्यूनतम तापमान क्रमश: शून्य से 8.3 डिग्री सेल्सियस नीचे और शून्य से पांच डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया.

चंबा जिले के डलहौजी में 5.1 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया, जबकि कुफरी में यह 2.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ. धर्मशाला में रात का तापमान 3.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था.

पंजाब और हरियाणा में कड़ाके की ठंड
हरियाणा के करनाल शहर में शनिवार को उत्तर-परिश्चमी हवाओं ने सर्दी बढ़ा दी है. यहां का न्यूनतम तापमान 2.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. मौसम विभाग के एक अधिकारी ने इस बात की जानकारी दी. सोमवार और मंगलवार को यहां हल्की बारिश होने की संभावना जताई गई है. मौसम विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि यहां ठंड के लिए ये हवाएं जिम्मेदार हैं.

जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड की बर्फीली चोटियों के ऊपर से गुजरने के बाद ये हवाएं इस क्षेत्र में पहुंच रही हैं, जो लोगों को कंपा रही है. पंजाब और हरियाणा की राजधानी चंडीगढ़ में न्यूनतम तापमान 6.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो शुक्रवार के तापमान 7.7 डिग्री से कम है.

मौसम विभाग के एक अधिकारी ने कहा, "पंजाब, अमृतसर, लुधियाना और पटियाला में न्यूनतम तापमान क्रमश: 6.4 डिग्री, 4.3 डिग्री और 4.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया." हरियाणा, हिसार, रोहतक और अंबाला में न्यूनतम तापमान क्रमश: 3.5 डिग्री और 3.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जबकि नारनौल में यह तीन डिग्री और भिवानी में 6.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ. पंजाब और हरियाणा के किसी भी क्षेत्र से घने कोहरे के होने की बात सामने नहीं आई है जिससे वाहन चालकों ने राहत महसूस किया है.