close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सट्टेबाज के घर से चोरी हुए 80 लाख के मामले में पुलिस ने 8 को किया गिरफ्तार, 52 लाख बरामद

12 लोगों ने दिया था डकैती को अंजाम, जिस शख्स के घर से चोरी हुई थी रकम उसकी आय की जांच करेगा इनकम टैक्स विभाग.

सट्टेबाज के घर से चोरी हुए 80 लाख के मामले में पुलिस ने 8 को किया गिरफ्तार, 52 लाख बरामद
सीसीटीवी की निशानदेही पर पुलिस ने 8 बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया.

नई दिल्लीः राजधानी में लूट और डकैती आम बात है.ऐसी ही एक और वारदात दिल्ली के डाबड़ी इलाके में हुई. जहां 10 नहीं 20 नहीं 80 लाख की डकैती हुई.लेकिन पुलिस ने इस वारदात को 24 घंटे से पहले सुलझा लिया. इस मामले में दिल्ली पुलिस ने 8 लोगों की गिरफ्तारी किया है. इनके पास से 52 लाख रुपये भी बरामद कर लिए गए है. द्वारका जिले के डीसीपी एन्टो एल्फांसो के मुताबिक 8 अगस्त को कॉल मिली की घर में लाखों की डकैती हो गई है.उसके बाद आनन-फानन में डाबड़ी थाने के SHO विजय पाल और इंस्पेक्टर नरेंद्र के साथ सिपाही देवेंद्र कुमार क टीम बनाई गई. पता चला की बदमाश तो डकैती के बाद घर में लगे सीसीटीवी ही उखाड़ ले गए. लेकिन बदमाश इलाके में लगे सीसीटीवी में आ गए.

सीसीटीवी की निशानदेही पर पुलिस ने 8 बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया. जिसकी पहचान आशीष चौधरी जो पेशे से कैब ड्राइवर, दीपांशु सिंह, राहुल चौहान पेशे से कैब ड्राइवर, करन पेशे से गुरुग्राम में लेब टेक्नीशियन, अभिषेक शर्मा पेशे से बार टेंडर , मनोज गुप्ता, अजय पेशे से क्लीनिग का काम करता है और राधे श्याम का अपना बिजेनस है. पुलिस ने जब इनको गिरफ्तार किया तो इनके पास से 52 लाख रुपए बरामद हुए.

Image

पुलिस ने बताया की इनमें से ज्यादातर ऐसे हैं जिन्होंने पहली बार अपराध किया है और इन्होंने बड़ी ही प्लानिंग से इस वारदात को अंजाम दिया. घर के मुखिया प्रदीप गुप्ता को घायल भी कर दिया. इन बदमाशों को मालूम था की इसके पास पास लाखों रुपए है. इसलिए करीब 12 लोगों ने इस डकैती की वारदात को अंजाम दिया.

Image

प्रदीप गुप्ता जो पेशे से प्रोपर्टी डीलिंग का काम करता है लेकिन उसकी आड़ में बड़ा बुकी भी है. पुलिस ने भारी रकम होने की वजह से इनकम टैक्स को भी सूचना दे दी है. जो पता लगा रही है की इतनी रकम कहां से आई. वहीं पुलिस बदमाशों की तलाश कर रही हैं. जिनसे बाकि रकम बरामद की जा सके.