फरीदाबाद: IPS अधिकारी ने खुद को मारी गोली, पुलिस इंस्पेक्टर पर लगा ब्लैकमेल करने का आरोप

मंगलवार देर रात विक्रम कपूर ने अपनी सर्विस रिवाल्वर से खुद को गोलीमार आत्महत्या कर ली. 

फरीदाबाद: IPS अधिकारी ने खुद को मारी गोली, पुलिस इंस्पेक्टर पर लगा ब्लैकमेल करने का आरोप

फरीदाबाद: फरीदाबाद में बुधवार सुबह एक आईपीएस अधिकारी ने अपने सरकारी आवास पर सर्विस रिवाल्वर से खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली. इस मामले में मृतक के पास से एक सुसाइड नोट भी मिला है जिसमें मृतक ने फरीदाबाद के ही एक थाने में तैनात पुलिस इंस्पेक्टर अब्दुल शहीद पर उसे लगातार टॉर्चर करने और आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप लगाया है. परिवार के लोग अभी इस मामले में अभी कुछ भी बोलने से इनकार कर रहे हैं. फिलहाल पुलिस ने इस मामले में परिजनों की शिकायत पर आरोपी पुलिस इंस्पेक्टर और उसके सहयोगी के खिलाफ आत्महत्या के लिए मजबूर करने की संगीन धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया है.

फरीदाबाद में पुलिस लाइन स्थित आईपीएस अधिकारी विक्रम कपूर ने आज सुबह करीब 6 बजे अपनी ही सर्विस रिवाल्वर से खुद को गोली मार ली. कपूर फरीदाबाद में बतौर  एनआइटी डीसीपी तैनात थे. 1983 में कपूर बतौर एएसआई तैनात हुए और विक्रम कपूर को 2020 अकटुबर में रिटायर होना था।  2017 में कपूर बतौर आईपीएस पदोन्नत हुए थे. कपूर यहां पुलिस लाइन में अपने 1 बेटे और पत्नी के साथ रहते थे और दूसरा बेटा पंचकूला में रहता था. 

आज सुबह करीब 6 बजे कपूर सैर करके अपने घर लौटे थे और उस समय घर पर पूरा परिवार मौजूद था. परिवार के लोगों के इधर-उधर होते हैं. कपूर ने अपनी सर्विस रिवाल्वर से गोली मारकर आत्महत्या कर ली. कपूर की लंबे समय से दोस्त रहे बिजेंद्र पाल गुप्ता की मानें तो कपूर से उनके संबंध बहुत पुराने थे. उनके पुलिस विभाग में कपूर जैसा अधिकारी आज तक नहीं देखा. 

 

कपूर के साथ काम करने वाले रिटायर्ड एसीपी दर्शन लाल मलिक की मानें तो उन्हें कोई परेशानी नहीं थी और वह एक अच्छे अधिकारी थे. उन्हें भी अभी तक यह मालूम नहीं चल सका है कि आखिर उन्होंने खुद को गोली क्यों मारी.

फरीदाबाद पुलिस पीआरओ सूबे सिंह की मानें तो विक्रम कपूर एनआईटी में डीसीपी तैनात थे और आज सुबह उन्होंने अपनी सर्विस रिवाल्वर से गोली मरकर आत्महत्या कर ली. परिजनों को एक सुसाइट नोट मिला है, जिसमें इंस्पेक्टर अब्दुल सहित और एक अन्य व्यक्ति का नाम आ रहा है जो सुसाइड नोट में लिखा हुआ है. फिलहाल परिजनों की शिकायत पर दोनों के खिलाफ आत्महत्या के लिए मजबूर करने की संगीन धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है. पुलिस की मानें तो इस तरह से डीसीपी को परेशान किया जा रहा था यह जांच का विषय है जो जल्द पूरी कर ली जाएगी.