पूर्व मुख्यमंत्री हुड्डा से सरकार ने जो पिछली बार छीनी थी सरकारी कोठी, इस बार खुद ही दे दी

हरियाणा में नेता प्रतिपक्ष पूर्व मुख्य मंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा को आखिर वो ही सरकारी कोठी देनी पड़ी जो भाजपा की पिछली सरकार ने छीन ली थी. 

पूर्व मुख्यमंत्री हुड्डा से सरकार ने जो पिछली बार छीनी थी सरकारी कोठी, इस बार खुद ही दे दी
.(फाइल फोटो)

चंडीगढ़: हरियाणा में नेता प्रतिपक्ष पूर्व मुख्यमंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा को आखिर वो ही सरकारी कोठी देनी पड़ी जो भाजपा की पिछली सरकार ने छीन ली थी. नेता प्रतिपक्ष के तोर पर भूपिंदर सिंह हुड्डा को चंडीगढ़ सेक्टर सात में कोठी नंबर 70 प्रदान की गई है. इसके साथ ही 61 विधायकों को भी फ्लैट आंवटित कर दिए गए हैं. भाजपा ,जजपा और इनेलो के कार्यलाय कमोबेस पहले वाले स्थानों पर ही रहेंगे क्यूंकि यह फ्लेट इन पार्टियों से सबंधित विधायकों को ही अलाट कर दिए गए हैं.  

चंडीगढ़ में सेक्टर सात में कोठी नंबर 70. भाजपा सरकार ने यही सरकारी कोठी पिछली सरकार के अपने कार्यकाल के दौरान पूर्व मुख्य मंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा से खाली करवा ली थी मगर वक्त का फेर देखिये. भाजपा की सरकार ने अपने दूसरे कार्यकाल में फिर से यही कोठी भूपिंदर सिंह हुड्डा को ही प्रदान कर दी है.

भूपिंदर सिंह हुड्डा अब सदन में नेता प्रतिपक्ष हैं लिहाजा कैबिनेट रैंक होने के चलते उनको कैबिनेट मंत्री के जैसी सरकारी कोठी और अन्य सरकारी सुविधाएं प्रदान करना सरकार की जिम्मेदारी है. गौरतलब है कि वर्ष दो हजार चौदह में मुख्य मंत्री रहते हुए भूपिंदर सिंह हुड्डा की सरकार ने फैसला लेकर हरियाणा के पूर्व मुख्य मंत्रीयों को चंडीगढ़ में सरकारी आवास प्रदान करने की व्यवस्था कर दी थी.

विधान सभा चुनावों में सत्ता भाजपा के हाथ लगी लिहाजा पूर्व मुख्य मंत्री होने के नाते हुड्डा ने इसी कोठी नंबर 70 में डेरा लगा लिया. हालांकि हुड्डा इस सरकारी कोठी में रहने का सुख ज्यादा दिन नहीं ले सके क्योंकि भाजपा सरकार ने कुछ दिन बाद ही कांग्रेस की हुड्डा सरकार के फैसले को पलट दिया और हुड्डा को कोठी खाली करनी पड़ी.  
 
हुड्डा के कोठी खाली करने के बाद यह कोठी पिछली भाजपा सरकार के उद्योग मंत्री विपुल गोयल को प्रदान की गई थी. इसके साथ ही हरियाणा के 61 विधायकों को भी फ्लैट आवंटित कर दिए गए हैं. ख़ास बात यह है कि भाजपा सहित, जजपा और इनेलो पार्टी के कार्यालयों में कोई बदलाव नहीं आया है क्योंकि पिछली सरकार के दौरान जिन फैल्ट्स में इन पार्टियों के कार्यलाय चल रहे थे उन्ही फ्लैट्स को पुनः इन्ही पार्टियों के विधायकों को आवंटित कर दिया गया है. फिलहाल अभय सिंह चौटला, नैना चौटाला सहित 15 विधायकों को उनके पुराने फ्लैट ही दोबारा दे दिए गए हैं.