• 285/542 लक्ष्य 272
  • बीजेपी+

    195बीजेपी+

  • कांग्रेस+

    67कांग्रेस+

  • अन्य

    23अन्य

जींद उपचुनाव: 70 प्रतिशत से अधिक हुआ मतदान, चौतरफा लड़ाई में फंसे रणदीप सुरजेवाला

इस उपचुनाव को मनोहर लाल खट्टर नीत राज्य सरकार पर जनमत संग्रह के तौर पर भी देखा जा रहा है. 

जींद उपचुनाव: 70 प्रतिशत से अधिक हुआ मतदान, चौतरफा लड़ाई में फंसे रणदीप सुरजेवाला
.(फाइल फोटो)

हरियाणा: जींद उपचुनाव में हुआ 70 प्रतिशत से अधिक मतदान जींद (हरियाणा), 28 जनवरी (भाषा) लोकसभा चुनाव से पहले हरियाणा में सत्तारूढ़ भाजपा और विपक्षी कांग्रेस के बीच प्रतिष्ठा की लड़ाई बताए जा रहे जींद उपचुनाव में सोमवार को 70 प्रतिशत से अधिक मतदान हुआ. कांग्रेस ने इस विधानसभा उपचुनाव में अपने मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला को उम्मीदवार बनाया है. यह उपचुनाव इनेलो और जननायक जनता पार्टी (जजपा) के लिए भी अहम माना जा रहा है. जजपा का गठन इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) से टूट कर अलग हुए एक धड़ा से हुआ है. 

शुरूआती आंकड़ों के मुताबिक शाम पांच बजे मतदान प्रतिशत 70 प्रतिशत को पार कर गया. अधिकारियों के मुताबिक अंतिम आंकड़े आने पर मतदान प्रतिशत में इजाफा हो सकता है क्योंकि शाम पांच बजे (मतदान समाप्त होने का निर्धारित समय) के बाद भी कई मतदान केंद्रों पर मतदाता कतार में लगे हुए थे. मतदान सुबह सात बजे शुरू हुआ था.

मतदान के आखिरी दो घंटों में मतदान केंद्रों के बाहर, खासतौर पर ग्रामीण इलाकों में लोगों की भीड़ देखी गई.  इनेलो विधायक हरि चंद मिड्ढा की मृत्यु के बाद इस सीट पर उपचुनाव कराने की जरूरत पड़ी. उनके पुत्र कृष्ण मिड्ढा हाल ही में भाजपा में शामिल हो गए और वह भगवा पार्टी के टिकट पर यह उपचुनाव लड़ रहे हैं.

वहीं, इनेलो ने उमेद सिंह रेढू को अपने उम्मीदवार के तौर पर उतारा है. जजपा ने सांसद दुष्यंत चौटाला के भाई दिग्विजय चौटाला को अपना उम्मीदवार बनाया है.  इस उपचुनाव में दो महिला उम्मीदवारों सहित कुल 21 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं. मतगणना 31 जनवरी को होगी. अधिकारियों ने बताया कि कहीं से किसी अप्रिय घटना की सूचना नहीं है.

उन्होंने बताया कि यहां 80,556 महिलाओं समेत करीब 1.7 लाख मतदाता पंजीकृत हैं.  इस निर्वाचन क्षेत्र के ग्रामीण इलाकों में 71 मतदान केंद्र हैं और शहरी क्षेत्रों में 103 मतदान केंद्र हैं. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि करीब 3000 पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं. इसके अलावा त्वरित कार्रवाई बल एवं सीआरपीएफ के 200 से अधिक जवान और 500 होम गार्ड तैनात किए गए हैं. इस उपचुनाव को मनोहर लाल खट्टर नीत राज्य सरकार पर जनमत संग्रह के तौर पर भी देखा जा रहा है. 

इनपुट भाषा से भी