close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

हेल्‍थ मिनिस्‍ट्री की बैठक में लगी बिस्‍कि‍ट पर पाबंदी, अब अधिकारी खाएंगे चने और बादाम

आदेश में कहा गया है कि स्वास्थ्य मंत्री चाहते हैं कि मीटिंग में हेल्दी स्नैक्स रखे जाएं और बि‍स्‍क‍िट से परहेज़ किया जाए. अब विभाग की कैंटीन में बि‍स्‍क‍िट नहीं बिकेंगे. आधिकारिक मीटिंग्स में लाहिया चना, खजूर, भुना चना, बादाम और अखरोट रखे जाएंगे.

हेल्‍थ मिनिस्‍ट्री की बैठक में लगी बिस्‍कि‍ट पर पाबंदी, अब अधिकारी खाएंगे चने और बादाम
स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री के इस आदेश की सोशल मीड‍िया पर भी तारीफ हो रही है. फाइल फोटो

नई दिल्‍ली: केंद्रीय स्‍वास्‍थ मंत्री डॉ. हर्षवर्धन के मंत्रालय की मीटिंग में बिस्‍क‍िट पर पाबंदी लगा दी गई है. शुक्रवार को जारी किए गए एक आदेश में स्वास्थ्य मंत्रालय ने आधिकारिक मीटिंग में हेल्दी स्नैक्स रखने का फरमान जारी किया है. स्वास्थ्य मंत्रालय के इंटरनल सर्कुलर में कहा गया है कि “स्वास्थ्य मंत्री चाहते हैं कि मीटिंग में हेल्दी स्नैक्स रखे जाएं और बि‍स्‍क‍िट से परहेज़ किया जाए. अब विभाग की कैंटीन में बि‍स्‍क‍िट नहीं बिकेंगे. आधिकारिक मीटिंग्स में लाहिया चना, खजूर, भुना चना, बादाम और अखरोट रखे जाएंगे.'

आदेश में ये भी कहा गया है कि मीटिंग में प्लास्टिक की पानी की बोतल का इस्तेमाल ना करने के पुराने आदेश का भी पालन किया जाएगा. सर्कुलर 24 जून का है और आदेश को तत्काल प्रभाव से लागू किया गया है. डॉ हर्षवर्धन के इस आदेश की सोशल मीडिया पर खूब तारीफ हो रही है.

बता दें कि बिस्किट मैदे से बनाए जाते हैं और मैदा बैड कोलेस्ट्राल बढ़ाने का काम करता है. इसके अलावा बिस्किट बनाने में ट्रांस-फैट यानी वनस्पति घी का इस्तेमाल किया जाता है. ये भी दिल की मांसपेशियों में जम जाता है और कोलेस्ट्रॉल बढ़ाता है, जिससे हाई ब्लड प्रेशर की समस्या हो सकती है. बिस्किट में मौजूद ट्रास फैट्स को लेकर ग्लोबल स्तर भी मुहिम चल रही है.

सेलेब्रिटी डायटीशियन रुजुता दिवाकर ने इस आदेश को ट्वीट करते हुए स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय की इस पहल की सराहना की है. दिल्ली की डायटीशियन अर्पिता आचार्य ने कहा कि अगर स्वास्थ्य मंत्री ने सरकारी कैंटीनों से सुबह और शाम के चाय के साथ बेकरी बिस्कि‍ट बंद की है तो ये बेहतर है. स्वास्थ अच्छा रहेगा, लोग स्वस्थ्य रहेंगे, और काम काज भी स्वस्थ होगा.