ZEE NEWS से बोले हैदराबाद रेप पीड़िता के पिता, 'न्याय नहीं मिला, राहत जरूर मिली'

दिशा के पिता ने कहा, "दिशा के आरोपी अब जिंदा नहीं है, इससे थोड़ा राहत जरूर है लेकिन देश के कई रेप पीड़िताओं को अभी न्याय मिलना बाकी है." 

ZEE NEWS से बोले हैदराबाद रेप पीड़िता के पिता, 'न्याय नहीं मिला, राहत जरूर मिली'
पीड़िता के पिता ने कहा, 'वह अभी भी यह तय नहीं कर पा रहे हैं कि अपनी दूसरी बेटी को काम पर भेजें या नहीं.

हैदराबाद: तेलंगाना की राजधानी में पशु चिकित्सक के साथ गैंगरेप और हत्या की वारदात के 10 दिन बाद पुलिस ने शुक्रवार को रंगारेड्डी जिले में शादनगर के पास मुठभेड़ में चारों आरोपियों को मार गिराया. ज़ी न्यूज संवाददाता प्रसाद भोसेकर ने पीड़िता के पिता से बातचीत की. पीड़िता के पिता ने कहा, 'वह अभी भी यह तय नहीं कर पा रहे हैं कि अपनी दूसरी बेटी को काम पर भेजें या नहीं. दिशा के आरोपी अब जिंदा नहीं है, इससे थोड़ा राहत जरूर है लेकिन देश के कई रेप पीड़िताओं को अभी न्याय मिलना बाकी है." 

पिता ने आज की घटना के संबंध में कहा, "मैंने 7 बजे टीवी देखा तो उससे एंकाउंटर का पता चला. फिर बहुत लोगों ने फोन करके बोला. सबसे अच्छा मिला अब दूसरा लोग भी ऐसा काम करने से डरेंगे. पूरा राष्ट्र इसकी तारीफ कर रहा है. मैं भी इसकी प्रशंसा करता हूं, सरकार और पुलिस का धन्यवाद करता हूं. हमकों न्याय तो नहीं मिला है क्योंकि बच्ची तो नहीं आएगा लेकिन थोड़ा सा राहत जरूर मिल गया है. कानून बना रहे हैं लेकिन उसको लागू नहीं कर रहे. निर्भया केस में 7 साल हो गए, तुरंत फांसी हो जाती तो अच्छा होता. आगे की जिंदगी बहुत मुश्किल है. बहुत याद आती है. अब एक बेटी है उसको ड्यूटी भेंजू या ना भेंजू इसके लिए बहुत परेशान हूं."   

ये भी देखें: 

एनकाउंटर पर पुलिस की '30 मिनट' की कहानी
आरोपियों को जेल से घटनास्थल तक लाया गया. क्राइम सीन दोहराने के लिए आरोपियों को लाया गया. घटनास्थल पर उस समय 10 पुलिसवाले मौजूद थे. सुबह 5:45-6:15 पर अपराधियों के साथ मुठभेड़ हुई. चारों आरोपियों ने पुलिस पर हमला किया. आरोपियों ने पुलिस की पिस्टल छीनकर फायरिंग की, आरिफ, चिंताकुंता ने पुलिस पर गोली चलाई. नवीन और शिवा ने पुलिस पर पत्थर फेंके. अपराधियों की गोली से 2 पुलिसवाले घायल. आरोपियों को पुलिस ने सरेंडर करने के लिए कहा, पुलिस ने एनकाउंटर में 4 आरोपियों को मार गिराया. आरोपी के पास से 2 हथियार बरामद किए.