DNA ANALYSIS: कोरोना से लड़ाई के दौरान अब मास्क पर भी चढ़ा फैशन का रंग

अगर आप भी अपने चेहरे को मास्क से ढक कर रखते हैं, तो आप ना सिर्फ अपने आपको सुरक्षित रखते हैं, बल्कि दूसरों को भी संक्रमण से बचाते हैं. 

DNA ANALYSIS: कोरोना से लड़ाई के दौरान अब मास्क पर भी चढ़ा फैशन का रंग

नई दिल्ली: कोरोना वायरस का इलाज तो अभी तक नहीं मिल पाया है लेकिन दो चीजों को इस महामारी के खिलाफ सबसे बड़ा हथियार माना जाता है. पहला है सोशल डिस्टेंसिंग और दूसरा है अपने चेहरे को मास्क से ढककर रखना. 

अगर आप भी अपने चेहरे को मास्क से ढक कर रखते हैं, तो आप ना सिर्फ अपने आपको सुरक्षित रखते हैं, बल्कि दूसरों को भी संक्रमण से बचाते हैं. 

लेकिन अब आज के दौर की जरूरत बने ये फेस मास्क फैशन का हिस्सा भी बन गए हैं. दुनियाभर की कई कंपनियां अब डिजाइनर फेस मास्क तैयार कर रही हैं, जिससे इसे पहले वाले खुद को सुरक्षित भी रख सकें और फैशन में भी कमी ना आए. 

अब बाजार में आपको कपड़ों से मैच करने वाले मास्क भी उपलब्ध हैं. कुछ कंपनियां तो सिल्क से बने मास्क भी तैयार कर रही हैं, जिनकी कीमत साढ़े तीन हजार रुपए से शुरू होती है. 

चीन में डिजाइनर मास्क बनाने वाली कई कंपनियों को तो एक दिन में 600 से 700 मास्क तैयार करने पड़ रहे हैं और इसकी मांग में कोई कमी नहीं आ रही. भारत में भी कई कंपनियों ने डिजाइनर मास्क बनाना शुरू कर दिया है. 

कोरोना वायरस के दौर में फेस मास्क की बदलती दुनिया पर हमने एक छोटा सा विश्लेषण तैयार किया है, अगर आपको फेस मास्क पहनना पसंद नहीं है तो हो सकता है कि ये विश्लेषण देखने के बाद आप अपना इरादा बदल दें और अपने लिए एक डिजाइनर मास्क ऑर्डर कर दें. 

फैशन लगातार बदलता रहता है और कहते हैं कि आपको फैशन के मुताबिक अपना वॉर्ड रोब भी बदलते रहना चाहिए. इस महामारी के दौरान भी फैशन लगातार बदल रहा है. मास्क प्रचलन में और आपके पास चेहरा ढंकने के लिए एक मास्क होना अब अनिवार्य है. 

चीन की एक डिजाइनर फैशन के साथ फंक्शन को जोड़ने का काम कर रही हैं. जोउ ली ऐसे मास्क बना रही हैं जिनमें कई तरह के फूलों की नक्काशी हैं. चीन में ऐसे मास्क भी बनाए जा रहे हैं जिन पर अच्छे भाग्य का संदेश देने वाले वाक्य लिखे हैं. 
डिजाइनर का कहना है कि हमने कपड़े में मास्क की जरूरतों को समझते हुए बदलाव किए हैं. आप देख सकते हैं कि इसे अंदर और बाहर से सिल्क से बनाया गया है. हम गर्मियों के लिए 16 मिलिमीटर मोटे सिल्क का इस्तेमाल कर रहे हैं और सर्दियों के लिए हम 22 मिलिमिटर मोटे सिल्क का इस्तेमाल इस मास्क के लिए करते हैं.'

इन डिजाइनर मास्क की मांग इतनी ज्यादा है कि जोउ की कंपनी हर दिन ऐसे 600 से 700 मास्क का उत्पादन कर रही हैं. फिर भी उनकी शिकायत है कि वो मांग पूरी नहीं कर पा रहीं. 

डिजाइनर का कहना है कि भविष्य में मास्क जाहिर तौर पर सामान्य और जरूर उत्पाद बन जाएंगे.  इनमें फैशन भी होगा और ट्रेडिशन भी, ये स्वास्थ्य को भी बचाएंगे और सुरक्षा भी देंगे. ये ऐसे ही रहेगा और डिजाइनर्स को ज्यादा क्रिएटिव होना होगा. 

भविष्य ही नहीं, मास्क अभी से हमारे जीवन का अहम हिस्सा बन गए हैं. चाहें आप दफ्तर जाएं, किसी दुकान पर जाएं या किसी भी काम के लिए घर से बाहर निकलें आपको मास्क पहनना ही है. यहां तक कि बीच पर भी मास्क पहना जरूरी हो गया है. 

एक इटैलियन डिजाइनर ने बिकिनी के साथ मास्क पहनकर तस्वीर पोस्ट की और इसे ट्राईकिनी नाम दे दिया. लेकिन मजाक में दिया गया ये नाम देखते ही देखते सच में फैशन बन गया. और डिजाइनर को पास बीच पर पहने जाने वाले ऐसे मास्क के ऑर्डर की बाढ़ आ गई. 

दुनिया भर के ब्रांड्स अब इस मौके का फायदा उठाने में जुट गए हैं,  Gucchi (गूचि) और Lui Vitton ने बिना समय गंवाए ऐसे डिजाइनर मास्क बनाना शुरू कर दिया है. 

भारत में भी कई कंपनियां भारतीयों को पसंद आने वाले मास्क बना रही हैं. भारत में खादी से लेकर कलमकारी, जमदानी और सांगनेरी कला से डिजाइन किए गए मास्क बनाए जा रहे हैं. बाजार में अब आपको कपड़ों से मैच होने वाले मास्क भी आसानी से उपलब्ध हैं. या फिर ऐसे मास्क जिनमें स्टाइल के साथ साथ स्टेटमेंट भी है. 

अब सवाल ये है कि क्या ये डिजाइनर मास्क फैशन के साथ साथ सुरक्षा की गारंटी भी देते हैं? इसका जवाब है हां, ज्यादातर मास्क आपके लिए काफी तरह सुरक्षित हैं. हां ये आपको N95 मास्क वाली सुरक्षा तो नहीं दे सकते लेकिन सुरक्षा की तीन लेयर्स के साथ तैयार किए गए ये मास्क फिर भी काफी काम के हैं. 

कोरोना वायरस अभी लंबे समय तक हमारे बीच में रहने वाला है, लेकिन इसका मतलब ये नहीं है कि आप स्वास्थ्य के नाम पर फैशन से समझौता कर लें. इसलिए डिजाइनर मास्क पहनिए, सुरक्षित रहिए और फैशनेबल रहिए.