close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कुलगाम मुठभेड़: जैश-ए-मोहम्मद के 3 आतंकवादी ढेर, DSP अमन ठाकुर और 1 जवान शहीद

अमन ठाकुर दो साल से दक्षिण कश्मीर के आतंकवाद से प्रभावित क्षेत्र कुलगाम में पुलिस उपाधीक्षक (अभियान) थे. 

 कुलगाम मुठभेड़: जैश-ए-मोहम्मद के 3 आतंकवादी ढेर, DSP अमन ठाकुर और 1 जवान शहीद
फोटो साभारः ANI

श्रीनगर: दक्षिण कश्मीर के कुलगाम जिले में रविवार को एक मुठभेड़ में एक पुलिस उपाधीक्षक, सेना के एक जवान शहीद हो गये और जैश-ए-मोहम्मद के तीन आतंकवादी मारे गये. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि इलाके में आतंकवादियों के एक समूह की मौजूदगी के बारे में पुलिस को खुफिया सूचना मिलने के बाद कुलगाम के तुरिगाम इलाके में मुठभेड़ शुरू हुई. अधिकारियों ने बताया कि वहां पहुंचे पुलिस दल पर गोलीबारी की गई जिसमें पुलिस उपाधीक्षक अमन ठाकुर गंभीर रूप से जख्मी हो गये. सैन्य अस्पताल ले जाते समय उन्होंने दम तोड़ दिया.

अधिकारियों ने बताया कि मुठभेड़ में सेना के एक मेजर और दो जवान भी घायल हुए. उन्होंने बताया कि घायल गैर कमीशन प्राप्त अधिकारी हवलदार सोमबीर ने बाद में दम तोड़ दिया. एक मेजर सहित अन्य घायल व्यक्ति खतरे से बाहर हैं. मुठभेड़ में तीन आतंकवादी भी मारे गये. उनकी पहचान अभी नहीं हो पाई है. जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ में जम्मू कश्मीर पुलिस सेवा के 2011 बैच के अधिकारी और जम्मू के डोडा क्षेत्र के निवासी ठाकुर पुलिस दल की अगुवाई कर रहे थे.

जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) दिलबाग सिंह ने कहा, ‘‘यह एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना है जिसमें हमने एक बहादुर अधिकारी को खो दिया. वह एक योद्धा थे और रविवार के अभियान अगुवाई उन्होंने खुद की.’’ दिलबाग सिंह ने आगे कहा कि, एक आतंकी का शव बराबद कर लिया गया है. हमारे पास जानकारी है कि 1 या दो आतंकी और मारे गए हैं.  सिंह ने कहा, ये आतंकी जैश-ए-मोहम्मद के थे. जो एक घर में छिपे हुए थे. जिसके बाद जिसके बाद सुरक्षा बलों ने ऑपरेशन शुरू किया और आतंकियों को मार गिराया. 

अमन ठाकुर दो साल से दक्षिण कश्मीर के आतंकवाद से प्रभावित क्षेत्र कुलगाम में पुलिस उपाधीक्षक (अभियान) थे. उन्होंने इलाके में आतंक विरोधी अभियानों की सफलतापूर्वक अगुवाई की थी. अनुकरणीय सेवा के लिए पिछले महीने उन्हें डीजीपी का कमेंडेशन मेडल और सर्टिफिकेट प्रदान किया गया था. 

इनपुट भाषा से भी