Farmers Protest: खुलकर किसानों के साथ आए Kejriwal, जेल के लिए नहीं दिए स्टेडियम

दिल्ली सरकार (Delhi Gvernment) ने किसान आंदोलन (Farmers protest) को सही ठहराते हुए 9 स्टेडियमों को अस्थायी जेल बनाने के दिल्ली पुलिस (Delhi Police) के अनुरोध को नामंजूर कर दिया है.

 Farmers Protest: खुलकर किसानों के साथ आए Kejriwal, जेल के लिए नहीं दिए स्टेडियम
फाइल फोटो.

नई दिल्ली: किसान बिल (Farmers bill 2020) के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन (Farmers protest) जारी है. पुलिस और किसान आमने--सामने हैं. इस बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Delhi CM Arvind Kejriwal) खुलकर किसानों (Farmers) के साथ आ गए हैं. केजरीवाल सरकार (Kejriwal Government) ने दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की स्टेडियम को जेल बनाने की अर्जी नामंजूर कर दी है.

'अहिंसक प्रदर्शन का सबको अधिकार'
दिल्ली के गृह मंत्री सत्येंद्र जैन (Satyendra Jain) ने कहा है, 'किसानों की मांगें जायज हैं. केंद्र सरकार को किसानों की मांगे तुरंत मान लेनी चाहिए. किसानों को जेल में डालना इसका समाधान नहीं है. किसानों का आंदोलन (Farmers protest) पूरी तरह अहिंसक है. अहिंसक प्रदर्शन करना हर भारतीय का संवैधानिक अधिकार है. अहिंसक प्रदर्शन के लिए किसानों को जेल में नहीं डाला जा सकता. इसलिए स्टेडियम को जेल बनाने की दिल्ली पुलिस की अर्जी को दिल्ली सरकार खारिज करती है.' आम आदमी पार्टी की तरफ से इस बाबट ट्वीट भी क्या गया है.
 

'तीनों बिल किसान विरोधी'
इससे पहले गुरुवार को अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने केंद्र सरकार के तीनों बिल (Farmers bill 2020) किसान विरोधी बताए. उन्होंने कहा, 'ये बिल वापस लेने की बजाय किसानों को शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने से रोका जा रहा है, उन पर वॉटर कैनन चलाई जा रही हैं. किसानों पर ये जुर्म बिलकुल गलत है. शांतिपूर्ण प्रदर्शन उनका संवैधानिक अधिकार है.'
 

यह भी पढ़ें: Farmers protest के पीछे पॉलिटिकल सपोर्ट? ये 'सबूत' दे रहे हैं संकेत

पुलिस-किसान आमने-सामने
बता दें, किसान बिल के खिलाफ पंजाब-हरियाणा के किसान विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. दिल्ली के सिंघु बॉर्डर पर प्रदर्शनकारी किसानों और पुलिस के बीच जममकर झड़प हुई. पुलिस किसानों को रोकने का प्रयास कर रही है लेकिन किसान पीछे हटने को तैयार नहीं है.  किसानों पर फिर आंसू गैस के गोले छोड़े जा रहे हैं. पानी की बौछार की जा रही है. टीकरी बॉर्डर पर अफरा-तफरी का माहौल बना हुआ है. अब इस प्रदर्शन का असर देश के अन्य राज्यों में भी दिख रहा है.

अन्य राज्यों में भी आंदोलन की आग
दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में भी किसान आंदोलन शुरू  हो गया है. मथुरा, लखनऊ, गाजियाबाद, मुजफ्फरनगर और मेरठ सहित कई शहरों में किसान सड़कों पर उतर आए हैं. मुजफ्फरनगर में भारतीय किसान यूनियन के राकेश सिंह टिकैत आंदोलन की अगुवाई कर रहे हैं. यूपी-हरियाणा बॉर्डर छावनी में तब्दील हो गया है. भारी संख्या में यूपी पुलिस बॉर्डर पर तैनात है. यूपी के तमाम शहरों में पुलिस अलर्ट पर है.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.