भारत फिर से 'विश्वगुरू' बनने की राह पर, 164 देशों के छात्र ग्रहण करते हैं उच्च शिक्षा

मानव संसाधन विकास मंत्रालय (HRD Ministry) की आई एक रिपोर्ट के मुताबिक, विदेशी छात्रों में महिलाओं की अपेक्षा में पुरुष छात्र ज्यादा आते हैं.

भारत फिर से 'विश्वगुरू' बनने की राह पर, 164 देशों के छात्र ग्रहण करते हैं उच्च शिक्षा
भारत में कुल विदेशी बच्चों की संख्या 47,427 हैं. ये बच्चे 164 देशों के हैं.

कोमल निगम/नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) के नेतृत्व में भारत का कद दुनियाभर में बढ़ता जा रहा है. मोदी सरकार 2.0 (Modi Government 2.0) के कुछ दिन पहले ही 100 दिन पूरे हुए हैं. इस दौरान मोदी सरकार ने कई बड़े फैसले लिए हैं. इन सबके बीच भारत लगातार हर क्षेत्र में तरक्की कर रहा है और अन्य वर्गों के साथ भारत शिक्षा के क्षेत्र में भी प्रगति पर है.

दरअसल, हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि, मानव संसाधन विकास मंत्रालय (HRD Ministry) की आई एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत (India) में हर वर्ष दुनियाभर से भारी संख्या में छात्र पढ़ने और इंटर्नशिप करने के लिए आते हैं. वहीं, इनमें से सबसे ज्यादा छात्र भारत के पड़ोसी देश नेपाल (Nepal) से आते हैं. इसके अलावा अफगानिस्तान (Afghanistan) समेत कई और देशों से भी बहुत से छात्र भारत में उच्च शिक्षा (Higher Education) प्राप्त करने के लिए आते हैं.

 

कर्नाटक है पहली पसंद 
भारत आए इन विदेशी छात्रों की उच्च शिक्षा के लिए पहली पसंद कर्नाटक (Karnataka) राज्य है. रिपोर्ट के अनुसार, इस राज्य में सबसे ज्यादा विदेशी छात्र आते हैं. वहीं, रिपोर्ट की मानें तो, विदेशी छात्रों में महिलाओं की अपेक्षा में पुरुष छात्र ज्यादा आते हैं. ये छात्र प्रबंधन, तकनीक आदि की शिक्षा के लिए भारत को प्रमुखता से चुनते हैं. भारत में सबसे ज्यादा विदेशी बीटेक करने आते हैं और दूसरे स्थान पर बीबीए करने आते हैं.

ये वीडियो भी देखें:

164 से ज्यादा देशों से आते हैं बच्चें
भारत में कुल विदेशी बच्चों की संख्या 47,427 हैं. ये बच्चे 164 देशों के हैं. इसके अलावा कई और देशों से भी बच्चे अलग अलग कोर्सेज के लिए भारत आते हैं. इन छात्रों में सबसे ज्यादा बच्चे नेपाल के हैं. भारत में नेपाली छात्रों की संख्या 26.88 प्रतिशत है. नेपाल के बाद अफगानिस्तान दूसरे स्थान पर है. कुल विदेशी विद्यार्थियों में अंडरग्रेजुएट छात्रों की संख्या 73.4 प्रतिशत है और पोस्टग्रेजुएट की संख्या 16.15 प्रतिशत है.