close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जेल से आने के बाद बोलीं BJP नेता, 'ममता की तस्वीर साझा करने के लिए माफी नहीं मांगूगी'

भाजपा कार्यकर्ता ने आरोप लगाया कि जेल में उसका उत्पीड़न हुआ और उन्हें प्रताड़ित किया गया. उस कहा कि जेल में मुझे प्रताड़ित किया गया. यहां तक कि जेलर ने भी कल मुझे धक्का दिया था. मैंने उनसे कहा कि मैं कोई अपराधी नहीं हूं कि आप इस तरह से मुझे जेल कक्ष के अंदर धक्का दे रहे हैं.

जेल से आने के बाद बोलीं BJP नेता, 'ममता की तस्वीर साझा करने के लिए माफी नहीं मांगूगी'
फाइल फोटो

कोलकाता: सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की विरूपित तस्वीर पोस्ट करने वाली भाजपा की युवा शाखा की कार्यकर्ता प्रियंका शर्मा ने कहा कि वह इसके लिए माफी नहीं मांगेगी. विरूपित तस्वीर पोस्ट करने के लिये प्रियंका को गिरफ्तार किया गया था और बुधवार को वह जेल से छूटकर बाहर आई.

यहां भाजपा कार्यालय में एक संवाददाता सम्मेलन में शर्मा ने कहा कि मुझे कोई पछतावा नहीं है. मैंने ऐसा कुछ नहीं किया है जिसके लिये मैं माफी मांगूं. उच्चतम न्यायालय के आदेश के बाद सुबह नौ बजकर 40 मिनट पर यहां की अलीपुर जेल से उसे रिहा किया गया.

भाजपा कार्यकर्ता ने आरोप लगाया कि जेल में उसका उत्पीड़न हुआ और उन्हें प्रताड़ित किया गया. उस कहा कि जेल में मुझे प्रताड़ित किया गया. यहां तक कि जेलर ने भी कल मुझे धक्का दिया था. मैंने उनसे कहा कि मैं कोई अपराधी नहीं हूं कि आप इस तरह से मुझे जेल कक्ष के अंदर धक्का दे रहे हैं. उन्होंने बहुत खराब बर्ताव किया. अंदर का माहौल बहुत खराब था.

उसकी रिहाई के वक्त दक्षिण कोलकाता के इस जेल के बाहर स्थानीय भाजपा नेता और उनकी मां भी मौजूद थीं. शर्मा ने फोन पर बताया, मैं और मेरा परिवार काफी पीड़ा से गुजरा है और मुझे लगता है कि मैं इसकी हकदार नहीं थी. उसके भाई राजीव शर्मा ने आरोप लगाया कि जेल प्रशासन ने प्रियंका को मंगलवार को रिहा नहीं कर उच्चतम न्यायालय के आदेश का उल्लंघन किया है.

उसने कहा कि जब हमलोग कल जेल गये तब अधिकारियों ने कहा कि उन्हें आदेश की प्रति चाहिए. मैं दिल्ली में था और इसकी प्रति जुटाने में मुझे समय लग गया इस वजह से देरी हुई. उन्होंने तत्काल रिहाई के उच्चतम न्यायालय के आदेश का पालन नहीं किया.

लाइव टीवी देखें

उच्चतम न्यायालय ने बुधवार को शर्मा की गिरफ्तारी को ‘‘प्रथमदृष्टया मनमाना’’ बताया और शर्मा की रिहाई में देरी के लिये पश्चिम बंगाल सरकार की खिंचाई की. शीर्ष अदालत ने शुरू में कहा था कि शर्मा की माफी जमानत की शर्त होगी लेकिन बाद में उसने स्पष्ट किया कि यह जमानत के लिये शर्त नहीं होगी, हालांकि इस तरह का पोस्ट करने के लिये रिहाई के वक्त उन्हें माफी मांगनी चाहिए.

प्रियंका शर्मा ने कथित रूप से फेसबुक पर एक पोस्ट साझा किया था, जिसमें न्यू यॉर्क में हुए मेट गाला में अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा की तस्वीर को विरूपित कर उसमें बनर्जी का चेहरा लगा दिया गया था. उनकी गिरफ्तारी के बाद भाजपा और अन्य सोशल मीडिया यूजर ने प्रदर्शन किया था.