अच्छी खबर: औद्योगिक उत्पादन की रफ्तार बढ़ी, मैन्युफैक्चरिंग ने लगाई छलांग

देश में आर्थिक मोर्चे पर अच्छी खबर है. जून में औद्योगिक उत्पादन में तेजी का रुख देखने को मिला है.

अच्छी खबर: औद्योगिक उत्पादन की रफ्तार बढ़ी, मैन्युफैक्चरिंग ने लगाई छलांग
प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली: देश में आर्थिक मोर्चे पर अच्छी खबर है. जून में औद्योगिक उत्पादन में तेजी का रुख देखने को मिला है और इस दौरान औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (आईआईपी) में बढ़ोतरी की दर पिछले चार महीने में सबसे अधिक रही है. जून में आईआईपी ग्रोथ 7 फीसदी रही है, जो मई में 3.2 फीसदी थी.

औद्योगिक उत्पादन की तेजी में सबसे अधिक योगदान मैन्युफैक्चरिंग क्षेत्र का रहा, जहां विकास दर 2.8 प्रतिशत से बढ़कर 6.9 प्रतिशत हो गई. इसके अलावा कैपिटल गुड्स में भी तेजी देखने को मिली. माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में त्योहारी मांग अधिक होने के कारण मैन्युफैक्चरिंग में ये उछाल देखने को मिला है. औद्योगिक उत्पादन में मैन्युफैक्चरिंग की अहम हिस्सेदारी है. इससे पहले रायटर ने अर्थशास्त्रियों के एक सर्वे के आधार पर आईआईपी विकास दर 5.4 प्रतिशत रहने का अनुमान जताया था. 

इलेक्ट्रानिक्स में भी तेजी 
इन आंकड़ों के आने के बाद आर्थिक मामलों के सचिव सुभाष चंद्र ने ट्वीट किया, 'जून में आईआईपी ग्रोथ के आंकड़े शानदार हैं. आईआईपी सात प्रतिशत की दर से बढ़ा है. कैपिटल गुड्स की वृद्धि दर 9.6 प्रतिशत रही है. पहली तिमाही में आईआईपी की वृद्धि 5.2 प्रतिशत है. विनिर्माण ने भी इतनी ही वृद्धि दर्ज की है. 23 में से 19 औद्योगिक ग्रुप में सकारात्मक वृद्धि दर्ज की गई. कम्प्यूटर्स और इलेक्ट्रानिक्स में ग्रोथ 44 प्रतिशत रही.'

 

आईआईपी में 40.27 प्रतिशत हिस्सा रखने वाले आठ बुनियादी ढांचागत क्षेत्रों में 6.7 प्रतिशत की वृद्धि हुई. इस दौरान सीमेंट, रिफाइनरी उत्पाद और कोयला क्षेत्र ने दो अंकों की वृद्धि दर हासिल की.