close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भारतीय नागरिक ने स्वीकारा विदेशी नागरिकों की तस्करी का आरोप, हो सकती है 10 साल तक की जेल

पटेल एक तस्करी अभियान चला रहा है, जिसके तहत भारत से विदेशी नागरिकों को अमेरिका लाने का प्रयास किया जा रहा है.

भारतीय नागरिक ने स्वीकारा विदेशी नागरिकों की तस्करी का आरोप, हो सकती है 10 साल तक की जेल
(प्रतीकात्मक तस्वीर)

वॉशिंगटन: अमेरिका में एक भारतीय नागरिक ने अवैध प्रवासियों के तौर पर भारतीयों की तस्करी किए जाने का आरोप स्वीकार कर लिया है. गुरुवार को न्यू जर्सी की एक अदालत के समक्ष जुर्म कबूल करते हुए 38 वर्षीय भाविन पटेल ने कहा कि उसने अपने आर्थिक लाभ के लिए ऐसा किया. उसे अधिकतम 10 साल जेल की कैद और 250,000 अमेरिकी डॉलर तक का जुर्माना हो सकता है. सजा की घोषणा 9 जुलाई को की जाएगी. इस मामले में दाखिल दस्तावेजों और अदालत में दिए गए बयानों के अनुसार, घरेलू सुरक्षा जांच विभाग (डिपार्टमेंट ऑफ होमलैंड सिक्योरिटी इन्वेस्टिगेशन) के एजेंटों को जानकारी मिली कि पटेल एक तस्करी अभियान चला रहा है, जिसके तहत भारत से विदेशी नागरिकों को अमेरिका लाने का प्रयास किया जा रहा है.

भयावह रूप ले चुकी है मानव तस्करी, हर तीसरा पीड़ित है बच्चा- रिपोर्ट

जांच से पता चला कि तस्करी करने वाले संगठन ने भारतीय नागरिकों और अन्य लोगों को अमेरिका लाने के बदले भारी भरकम राशि ली थी. अक्टूबर 2013 से जाल बिछाया गया और एक जांच अधिकारी ने तस्कर बन कर बैंकाक में पटेल से मुलाकात की. पटेल ने इस अधिकारी से कहा कि वह कुछ भारतीय नागरिकों को तस्करी कर अमेरिका लाना चाहता है. न्याय विभाग ने बताया कि तीन अलग अलग बार पटेल ने या उसके साथी ने भारतीय नागरिकों को थाईलैंड के एक हवाईअड्डे तक पहुंचाया. 

मानव तस्करी पर आधारित है फिल्म 'ट्रेड', जल्द शुरू होगी शूटिंग

वहां से जांच अधिकारी को अपने संपर्कों का इस्तेमाल कर इन नागरिकों को वाणिज्यिक एयरलाइन की उड़ानों से अमेरिका लाना था. पटेल इसके लिए भुगतान करने को तैयार हो गया. हर व्यक्ति के लिए हजारों डॉलर की राशि तय हुई. अगले कुछ माह में पटेल ने छह भारतीयों को थाईलैंड लाने और वहां से तस्करी के जरिये नेवार्क लिबर्टी इंटरनेशनल एयरपोर्ट होते हुए अमेरिका लाने की व्यवस्था की. इसी क्रम में वह सात दिसंबर 2018 को नेवार्क लिबर्टी पहुंचा और वहां उसे गिरफ्तार कर लिया गया.