close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कमलेश तिवारी की हत्या में पाकिस्तान कनेक्शन! दुबई में बना प्लान, लखनऊ में दिया गया अंजाम

हिंदू समाज पार्टी के अध्यक्ष कमलेश तिवारी की हत्या के पीछे पाकिस्तान का कनेक्शन सामने आया है.

कमलेश तिवारी की हत्या में पाकिस्तान कनेक्शन! दुबई में बना प्लान, लखनऊ में दिया गया अंजाम
हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी की हत्या का प्लान दुबई में बनाया गया और सूरत में इसकी तैयारी की गई.

नई दिल्ली: हिंदू समाज पार्टी के अध्यक्ष कमलेश तिवारी (Kamlesh Tiwari) की हत्या के पीछे पाकिस्तान (Pakistan) का कनेक्शन सामने आया है. हत्या का प्लान दुबई में बनाया गया और सूरत में इसकी तैयारी की गई. बाद में इस प्लान को लखनऊ में अंजाम दिया गया. गुजरात एटीएस (Gujarat ATS) ने कमलेश तिवारी हत्याकांड की जांच में कई कड़ियों को जोड़ा है और उसी में यह बात सामने आई है.  

गुजरात ATS ने सूरत के लिम्बायत इलाके से रशीद, मोहसिन और फैज़ल को गिरफ्तार किया है. रशीद से पूछताछ में बड़ा खुलासा हुआ है. रशीद के कराची पकिस्तान के कनेक्शन सामने आए है. रशीद दुबई की जिस कंपनी में काम करता था उसका मालिक पकिस्तान के कराची का होने का खुलासा हुआ है. रशीद कराची गया है या नहीं इस मामले में ATS पूछताछ कर रही है. आतंकी संगठनो को लेकर भी ATS ने जांच शुरू करदी है.

सूरत से ख़रीदे गए मिठाई के बक्से के ज़रिये पुलिस आरोपियों तक पहुंची. दरअसल, 2015 में कमलेश तिवारी ने पैगम्बर साहब के खिलाफ टिपणी की थी. उस दौरान रशीद पठान के भाई मयुदिन के साथ मील कर हत्य करने का सोचा था लेकिन वो इसे अंजाम नहीं दे पाए थे. 

कमलेश तिवारी के परिवार ने ZEE NEWS से कहा, 'हम पुलिस की जांच से संतुष्ट नहीं'

LIVE टीवी:

2017 में रशीद दुबई गया जहा वो आईटी कंपनी में नौकरी करता था और हाल ही में 2 महीने पहले रशीद सूरत आया था. सूरत आने के बाद रशीद ने फिर से कमलेश तिवारी की हत्या करने के लिए षड़यंत्र तैयार किया जिसके लिए रशीद ने उसी की  बिल्डिंग में रह रहे मोलाना मोहसिन से बात की थी. मोहसिन में कहा की सरियत और कुरान में "वाजिब-ऐ-क़त्ल" बोला गया है जो कहता है की इनकी हत्या करने में कोई पाप नहीं है. 

मौलाना की बात से कट्टर हुए रशीद ने खुद कमलेश की हत्या करने का फैसला लिया जिसके लिए भाई मयुदिन ने मना कर दिया और असफाक के साथ इस जुर्म को अंजाम देने रशीद चला गया. फैज़ान और रशीद ने साथ में सूरत की धरती स्वीट शॉप से मिठाई खरीदने गए थे जिसके बाद सूरत से ही पिस्तौल और चाक़ू खरीद कर हत्यार को मिठाई के बॉक्स में छिपा दिया. 16 अक्टूबर को रात 9.55 बजे ट्रेन से लखनऊ जाने के लिए रवाना हुए.

ट्रेन में मुसाफरी के दौरान दाढ़ी निकालकर वेश बदल लिया और भगवा कपडे पहनकर हिन्दू का वेश धारण कर लिया. डेढ़ दिन तक लखनऊ में रुकने के बाद ह्त्या कर फरार हो गए. असफाक और रशीद का भाई मयुदिन अभी तक फरार है जिन पर उत्तर भारत में छिपे होने की आशंका है. लखनऊ के सीसीटीवी में दोनों के साथ दिख रही महिला के पहचान नहीं हो पाई है और उस महिला का इस केस में क्या रोल है उसके बारे में भी पुलिस को फिलहाल कोई जानकारी नहीं है.

उधर, कमलेश तिवारी हत्याकांड के आरोपी रशीद के पिता ने अपने बेटे को निर्दोष बताया. रशीद के पिता ने कहा कि रशीद दुबई में किसी दूकान में कंप्यूटर का काम करता था. दो महीने पहले ही रशीद दुबई से भारत आया था.
रशीद अपने भाई की शादी के लिए भारत आया था. रशीद के पिता ने कहा कि उनका बेटा बोहोत सीधा लड़का है और वो ऐसे काम कभी नहीं कर सकता. रशीद घर में भी बहुत मदद करता था और ख़ास करके अपनी मम्मी का बहुत ख़याल रखता था क्योंकि उनकी तबियत खराब रहती थी.