कासगंज हिंसाः चंदन गुप्ता मर्डर केस में आरोपी सलीम के बाद सलमान भी पुलिस की गिरफ्त में

चंदन गुप्ता (22) की हत्या के मामले में एक और आरोपी सलमान को गिरफ्तार किया. इसके पास से एक देशी पिस्तौल और दो कारतूस बरामद हुए है.

कासगंज हिंसाः चंदन गुप्ता मर्डर केस में आरोपी सलीम के बाद सलमान भी पुलिस की गिरफ्त में
कासगंज में चंदन गुप्ता हत्या के आरोपी सलमान को पुलिस ने किया गिरफ्तार (फोटोः एएनआई)

कासगंजः उत्तर प्रदेश के कासगंज जिले में 26 जनवरी को हुई हिंसा के मामले में पुलिस ने मंगलवार को पुलिस ने एक और आरोपी को गिरफ्तार कर लिया. वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पीयूष श्रीवास्तव ने मीडिया को बताया, 'पुलिस ने आज (मंगलवार) चंदन गुप्ता (22) की हत्या के मामले में एक और आरोपी सलमान को गिरफ्तार किया. इसके पास से एक देशी पिस्तौल और दो कारतूस बरामद हुए है.’’ इस बीच, एक अन्य मामले में कार्रवाई करते हुए एक व्हाट्सएप्प समूह चलाने वाले एडमिन को गिरफ्तार कर लिया है.

जिलाधिकारी आरपी सिंह ने बताया कि जिले में साम्प्रदायिक हिंसा के बारे में व्हाट्सएप्प समूह में आपत्तिजनक और भड़काऊ मैसेज और चित्र डालने के आरोप में पुलिस ने ग्रुप एडमिन राम सिंह और ग्रुप के सदस्य अजय गुप्ता के खिलाफ मामला दर्ज कराया है. 

पुलिस ने ग्रुप एडमिन राम सिंह को गिरफ्तार कर लिया है जबकि ग्रुप का एक सदस्य अजय गुप्ता फरार है. गौरतलब है कि गणतंत्र दिवस के दिन कासगंज में तिरंगा यात्रा निकालने के दौरान दो पक्षों के बीच हिंसा हुई थी, जिसमें चंदन गुप्ता (22)नामक एक युवक की गोली लगने से मौत हो गई थी. युवक की हत्या के बाद से कासगंज में हिंसा और आगजनी शुरू हो गई थी.

गौरतलब है कि 31 जनवरी को चंदन गुप्ता की हत्या के मुख्य आरोपी सलीम को गिरफ्तार किया गया था. सलीम पर चंदन को गोली मारने का आरोप है. ऐसा बताया जा रहा है कि सलीम की गोली से ही चंदन की मौत हुई थी. वहीं, 3 फरवरी को एक अन्य आरोपी राहत कुरैशी को गिरफ्तार किया गया था. 

 

आपको बता दें कि 26 जनवरी को कासगंज में तिरंगा यात्रा के दौरान हुई हिंसा में चंदन गुप्ता को गोली मारी गई थी. जिससे उनकी मौत हो गई थी. इस मामले के बाद शहर में कई हिंसक वारदात हुई. तीन दिन तक कासगंज में कर्फ्यू लगा दिया गया था. जबकि अभी तक कासगंज में पुलिस बल तैनात है.

गोली लगने से हुई थी चंदन की मौत
26 जनवरी की सुबह कासगंज में ‘वन्देमातरम’और ‘भारत माता की जय’ के नारे लगाते हुए हाथों में तिरंगा झंडा लिए कुछ युवा मोटरसाइकिलों से जुलूस निकाल रहे थे. लेकिन जुलूस जैसे ही अल्पसंख्यक बाहुल्य क्षेत्र बड्डूनगर में पहुंचा तो कुछ उपद्रवी तत्वों ने बाइक सवारों पर पथराव और फायरिंग कर दी. इस फायरिंग में दो युवक अभिषेक गुप्ता उर्फ चन्दन एवं नौशाद घायल हो गए. घायल चंदन को सरकारी अस्पताल ले जाया गया जहां उसकी मौत हो गई.

ये भी पढ़ें: हिंसा से जूझ रहा था कासगंज तो MLA देख रहे थे कैलाश खेर का कंसर्ट, वीडियो सामने आया तो दी ये सफाई

गौरतलब है कि कासगंज हिंसा में चंदन गुप्ता की मौत मामले में डीएम आरपी सिंह ने 29 जनवरी को शुरुआती जांच के आधार पर बड़ा खुलासा किया था. डीएम आरपी सिंह ने कहा कि छत से गोली चलने की वजह से चंदन की मौत हुई है. हालांकि उन्होंने ये भी कहा था कि जांच रिपोर्ट आने के बाद ही निष्कर्ष तक पहुंचा जा सकता है. 

ये भी पढ़ें: कासगंज हिंसा: भाजपा का हो चुका है घोर अपराधीकरण- मायावती

डीएम ने बताया कि चंदन गुप्ता की संकल्प संस्था से जुड़े थे. घटना वाले दिन संकल्प संस्था के करीब 70-80 युवा बाइक पर तिरंगा लगाकर नारे लगाते हुए शहर में परिक्रमा कर रहे थे. वडुनगर मोहल्ले में जब वे पहुंचे तो वहां पहले से जाति विशेष के लोग इकट्ठे थे. वे लोग ध्वजारोहण के बाद भाषण दे रहे थे. रास्ते को लेकर इनमें आपस में वाद-विवाद हुआ. हालांकि इस बात का कोई प्रत्यक्षदर्शी नहीं है, जिससे पता चल सके कि विवाद की वजह क्या है.

ये भी पढ़ें: कासगंजः धीरे-धीरे पटरी पर लौट रहा शहर, लेकिन पुलिस की गश्त जारी

चंदन के पिता ने डीएम पर भड़के
सोमवार को मृतक चंदन के घर पर डीएम आरपी सिंह सहित अन्य आला अधिकारी पहुंचे थे. डीएम ने जब चंदन के पिता को 20 लाख रुपए का चेक देने की कोशिश की तो वे भड़क गए. उन्होंने अफसरों को फटकारने के अंदाज में खरी-खरी सुना दी. अधिकारियों ने करीब आधे घंटे तक मृतक के पिता को समझाया, जिसके बाद वे चेक लेने को तैयार हुए.

Kasganj violence
यूपी के कासगंज में हिंसा भड़कने के बाद पूरे शहर में पुलिस की गश्त तेज कर दी गई है. तस्वीर साभार: IANS

ये भी पढ़ें: कासगंज हिंसाः राज्यपाल राम नाइक बोले, यह घटना यूपी के लिए कलंक के रूप में हुई है

कासगंज के SP हटाए गए
कासगंज हिंसा के मामले में सरकार ने 29 जनवरी को पुलिस अधीक्षक को हटा दिया. सरकार के एक प्रवक्ता ने बताया कि कासगंज के पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार सिंह को हटा दिया गया है. उनके स्थान पर पीयूष श्रीवास्तव को पुलिस कप्तान बनाया गया है.