close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

छत्तीसगढ़: फंड की कमी से 1 दर्जन से ज्यादा जिलों में रद्द हुई मुख्यमंत्री तीरथ बरत योजना की यात्रा

12 हजार से ज्यादा बुजुर्गों को तीर्थ यात्रा पर भेजा जाना था, लेकिन फंड की कमी की वजह से बजट की नहीं मिल पाई मंजूरी.

छत्तीसगढ़: फंड की कमी से 1 दर्जन से ज्यादा जिलों में रद्द हुई मुख्यमंत्री तीरथ बरत योजना की यात्रा
नई तीर्थ यात्रा को लेकर वित्त का मामला अटक रहा है.

नई दिल्लीः छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार आने के बाद बीजेपी की पूर्व 'मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा' योजना को बदलकर 'तीरथ बरत योजना' कर दिया गया था. जिसके बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस योजना के अंतर्गत वृद्धजनों और दिव्यांगों को निशुल्क तीर्थ यात्रा कराने की घोषणा की थी और इसके अंतर्गत 12 हजार से ज्यादा बुजुर्गों को तीर्थ यात्रा पर भेजा जाना था, लेकिन फंड की कमी की वजह से बजट की नहीं मिल पाई मंजूरी.

बता दें यात्रा रद्द किए जाने से पहले 12 से ज्यादा जिलों में रजिस्ट्रेशन और लिस्ट बनाई गई थी, जिसके अंतर्गत 2 जिलों में तिथि की भी घोषणा की जा चुकी थी, लेकिन समय तय होने के बाद सरकार को अचानक ही यह यात्रा रद्द करनी पड़ी. मिली जानकारी के मुताबिक छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार को अभी तक इस यात्रा के लिए बजट नहीं मिल पाया था, जिसके चलते इस यात्रा को रद्द करना पड़ा.

हज संबंधी प्रक्रिया ऑनलाइन होने के बाद यात्रा हुई किफायती: मुख्तार अब्बास नकवी

सरकार द्वारा 5 जुलाई से 27 सितंबर तक सभी जिलों के बुजुर्गों को प्रस्तावित तीर्थ यात्रा पर भेजना था, लेकिन फंड की कमी के चलते यात्राएं रद्द कर दी गई हैं. सूत्रों के मुताबिक पिछले सत्र के मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन यात्रा के भी लाखों रुपए का भुगतान अभी बकाया है, जिसकी मंजूरी वित्त विभाग में अटकी हुई है. समाज कल्याण विभाग का मानना है की योजना का नाम बदलने की वजह से पिछली राशि की स्वीकृति इस वित्तीय वर्ष में नहीं मिल रही जिसकी वजह से नई तीर्थ यात्रा को लेकर वित्त का मामला अटक रहा है.

अमरनाथ यात्रा के लिए एक लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने कराया पंजीकरण

सरकार के पास फंड की कमी
समाज कल्याण विभाग का मानना है की योजना का नाम बदलने की वजह से पिछली राशि की स्वीकृति इस वित्तीय वर्ष में नहीं मिल रही है, जिसकी वजह से नई तीर्थ यात्रा को लेकर वित्त का मामला अटक रहा है और यही कारण है कि सरकार को यह यात्रा रद्द करनी पड़ी.