MP में वापसी के लिए कांग्रेस लड़ा सकती है दिग्गजों को चुनाव, BJP से उमा का भी नाम आगे

  मध्य प्रदेश में 27 सीटों पर होने वाले उपचुनाव के जरिए कांग्रेस सरकार में लौटने का सपना देख रही है. इन चुनावों में बीजेपी उन्हीं विधायकों को मैदान में उतारेगी जो कांग्रेस छोड़ बीजेपी में शामिल हुए हैं. वहीं कांग्रेस दिग्गज चेहरों पर दांव लगा सकती है.

MP में वापसी के लिए कांग्रेस लड़ा सकती है दिग्गजों को चुनाव, BJP से उमा का भी नाम आगे
विधान की 27 सीटों पर होने हैं उपचुनाव

भोपाल:  मध्य प्रदेश में 27 सीटों पर होने वाले उपचुनाव के जरिए कांग्रेस सरकार में लौटने का सपना देख रही है. इन चुनावों में बीजेपी उन्हीं विधायकों को मैदान में उतारेगी जो कांग्रेस छोड़ बीजेपी में शामिल हुए हैं. वहीं कांग्रेस दिग्गज चेहरों पर दांव लगा सकती है. वहीं बड़े चेहरों पर चुनाव लड़ने के कांग्रेस के दावे को बीजेपी ने चंदा उगाही का जरिया बताया है. जबकि BJP में भी उमा भारती के नाम पर मंथन चल रहा है.

क्या है विधान सभा में आंकड़ों का गणित?
मौजूदा विधानसभा में कांग्रेस के पास 89 विधायक है, विधानसभा की कुल 230 सीटों के हिसाब से सरकार बनाने के लिए 116 विधायकों का बहुमत होना जरूरी है. यानी कांग्रेस को सभी 27 सीटों पर जीत हासिल करनी होगी. बीजेपी के मौजूदा विधायक 107 हैं, सरकार में बने रहने के लिए बीजेपी को केवल 9 विधायक चाहिए. इसमें 4 निर्दलीय विधायक समेत बसपा के दो और सपा के एक विधायक की भूमिका भी किंग मेकर की होगी. फिलहाल ये किंग मेकर बीजेपी के साथ हैं.

इन दिग्गजों के साथ मैदान में उतर सकती है कांग्रेस
सत्ता में वापसी का सपना संजोए कांग्रेस पूरी ताकत के साथ रणनीति पर काम कर रही है. चूंकि बीजेपी की तरफ से उम्मीदवार वही रहेंगे जो कांग्रेस से आकर बीजेपी में शामिल हुए हैं. लिहाजा कांग्रेस इन उपचुनावों में जीत हासिल करने के लिए दिग्गजों को मैदान में उतार सकती है. अरुण यादव, चौधरी राकेश सिंह, केएल अग्रवाल, राम निवास रावत, अशोक सिंह, पारुल साहू, प्रेमचंद गुड्डू समेत कई के नामों पर चर्चा है. प्रेमचंद्र गुड्डू तो सांवेर विधानसभा क्षेत्र में बैठक भी ले रहे हैं. 

कमलनाथ सरकार के खिलाफ बनी दूसरी कमिटी, कांग्रेस ने निकाला BJP का व्यापमं कनेक्शन

लोधी वोट बैंक को साधने के लिए उमा भारती पहली पसंद
ये दिग्गज सर्वे रिपोर्ट में सबसे आगे भी नजर आ रहे हैं. इसी तरह उमा भारती का नाम भी बीजेपी की तरफ से सामने आ रहा है, वे बड़ा मलेहरा सीट से दावेदार मानी जा रही हैं. बीजेपी के सरकार में आने के बाद कुंवर प्रद्युम्न सिंह लोधी ने कांग्रेस विधायक पद से इस्तीफा दे दिया था. बीजेपी ने लोधी को नागरिक आपूर्ति निगम का अध्यक्ष बनाकर कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया है. यहां के लोधी वोटों को साधने के लिए उमा भारती को चेहरा बनाया जा सकता है.

क्या कहती कांग्रेस?
कांग्रेस के मीडिया विभाग उपाध्यक्ष भूपेंद्र गुप्ता ने कहा कि अभी फाइनल कुछ नहीं हुआ है, लेकिन उपचुनाव जीतने के लिए हर तरह की तरकीब अपनाई जाएगी. बीजेपी ने लोकतंत्र का गला घोटा है. उपचुनाव के जरिए लोकतंत्र की वापसी का प्रयास होगा. 

बीजेपी का ये है तर्क
बीजेपी प्रवक्ता राहुल कोठारी आरोप लगाते हैं कि दिग्गजों को केवल बलि का बकरा बनाने की कोशिश है उपचुनाव बीजेपी ही जीतेगी. कांग्रेस नेता चंदा वसूलने के लिए चुनाव लड़ते हैं यही कांग्रेस की तरकीब है.