MP में चल रहे यूरिया संकट के बीच हो रही थी यूरिया की कालाबाजारी, 200 से अधिक बोरी यूरिया बरामद

कृषि विभाग की छापेमारी रात भर से चलती रही.यूरिया की कालाबाजारी करने वाला प्रमोद साहू कृषि विभाग की टीम को देखते ही फरार हो गया. कृषि विभाग पूरे मामले की जांच कर रहा है

MP में चल रहे यूरिया संकट के बीच हो रही थी यूरिया की कालाबाजारी, 200 से अधिक बोरी यूरिया बरामद
फाइल फोटो

बैतूल: मध्य प्रदेश के बैतूल में एक ऐसा मामला सामने आया है जहां यूरिया की कालाबाजारी के चलते महाराष्ट्र से लाई गई यूरिया रात के अंधेरे में महंगे दामों पर बेची जा रही थी. जिसे कृषि विभाग ने पकड़ लिया है. 

बताया जा रहा है कि, बैतूल में उप संचालक कृषि को शुक्रवार की रात सूचना मिली थी, कि जिला मुख्यालय के पास स्थित कोलगांव में एक ट्रक यूरिया लाया गया है, जिसकी कालाबाजारी की जा रही है. उप संचालक कृषि ने तत्काल एक टीम बनाकर मौके पर भेजी, टीम के पहुंचते ही ट्रक ड्राइवर ट्रक लेकर फरार हो गया. ट्रक को भागते देख टीम का एक कर्मचारी अपनी जान की परवाह किए बिना ट्रक पर लटक गया. टीम ने ट्रक का पीछा किया और कुछ दूर जाकर ड्राइवर ने ट्रक को रास्ते में छोड़ा और भाग निकला.

गौरतलब है कि कृषि विभाग ने यूरिया से भरे ट्रक को बैतूल बाजार पुलिस थाने में खड़ा करवा दिया है. इस ट्रक से 200 बोरी यूरिया जप्त किया गया है. बता दें, ड्राइवर जहां से ट्रक को छोड़कर भागा था, वहां पर 39 बोरी यूरिया घास छिपा मिला जिसे कृषि विभाग ने जप्त कर लिया है.

कृषि विभाग की छापेमारी रात भर से चलती रही.यूरिया की कालाबाजारी करने वाला प्रमोद साहू कृषि विभाग की टीम को देखते ही फरार हो गया. कृषि विभाग पूरे मामले की जांच कर रहा है. यूरिया की किल्लत के चलते लोग महंगे दामों पर यूरिया खरीदने को तैयार है. बैतूल जिले की सीमा से लगे महाराष्ट्र से यूरिया लाकर जिले में कालाबाजारी की जा रही है.