महिला एवं बाल विकास विभाग के कार्यालय में कागजात जलाने से शंका के घेरे में आया विभाग

महिला एवं बाल विकास विभाग के जिला अधिकारी छुट्टी पर है उन्होंने कहा कि उन्हें नहीं मालूम कि कर्मचारियों ने कौन से कागजात जलाए हैं. 

महिला एवं बाल विकास विभाग के कार्यालय में कागजात जलाने से शंका के घेरे में आया विभाग
फोटो सौजन्य: ANI

प्रमोद सिन्हा, खंडवाः मध्य प्रदेश के खंडवा में रविवार रात महिला एवं बाल विकास विभाग के कार्यालय में कागजात जलाने का मामला सामने आया. यह कागजात रात के समय जलाए जा रहे थे तभी किसी की नजर पड़ी और मीडिया को सूचना दे दी गई. इन कागजातों में 2014 के महिला एवं बाल विकास विभाग में सुपरवाइजर की भर्ती के डॉक्यूमेंट भी थे. यह परीक्षा व्यापम के द्वारा आयोजित की गई थी. व्यापम के कागज देखते ही लोगों ने इसे शंका की दृष्टि से देखा और कुछ  वीडियो भी वायरल हो गए .

महिला एवं बाल विकास विभाग के जिला अधिकारी छुट्टी पर है उन्होंने कहा कि उन्हें नहीं मालूम कि कर्मचारियों ने कौन से कागजात जलाए हैं. सूचना लगते हैं कुछ कांग्रेसी कार्यकर्ता और स्थानीय लोगों ने संज्ञान लेते हुए वरिष्ठ अधिकारियों को सूचना दी.  रात होने की वजह से तुरंत कोई अधिकारी नहीं आ पाया लेकिन कलेक्टर ने  इस पर संज्ञान लेते हुए स्थानीय तहसीलदार को जांच करने के निर्देश दिए. सुबह इन कागजातों की राख को कार्यालय के अहाते में लगे पेड़ पौधों में डाल दिया गया.

ऐसा बताया जा रहा है कि जो कागजात जलाए जा रहे थे उसमें 2014 में  व्यापम के माध्यम से  सुपरवाइजर की भर्ती संबंधी कागजात भी थे.  इसी को लेकर इस मामले को शंका की दृष्टि से देखा जा रहा है. अभी यह साफ नहीं हो पाया है कि यह  कागजात विनिष्टिकरण की प्रक्रिया को अपनाते हुए जलाया जा रहा था या सीधे ही जलाया गया. तहसीलदार  इसकी इस संबंध में जांच और बयान के बाद कलेक्टर को अपनी रिपोर्ट सौंपेंगे.