close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भीषण गर्मी में जल सेवा कर रहे हैं गिरिराज भक्त मंडल के सदस्य, ट्रेन में जाकर यात्रियों को पिलाते हैं पानी

गिरिराज भक्त मंडल के लोग अक्सर जनरल डिब्बे के लोगों को पानी पिलाने जाते हैं, क्योंकि यहां लोग अक्सर भीड़ के चलते पानी लेने बाहर जाने से बचते हैं और प्यास से परेशान होते रहते हैं.

भीषण गर्मी में जल सेवा कर रहे हैं गिरिराज भक्त मंडल के सदस्य, ट्रेन में जाकर यात्रियों को पिलाते हैं पानी
फाइल फोटो (फोटो साभारः twitter)

नई दिल्लीः भीषण गर्मी और भयंकर जल संकट के बीच शाजापुर में हजारों रुपए खर्च करके जल सेवा करने का एक अनोखा मामला देखने में आया है. यहां पर गिरिराज भक्त मंडल द्वारा शाजापुर रेलवे स्टेशन पर आने जाने वाली ट्रेनों में लोगों को RO का ठंडा पानी पिलाया जा रहा है. भक्त मंडल के सदस्य रोजाना RO की 100 पानी की जार (बॉटल) एक कि मात्रा करीब 20 लीटर, से रोजाना शाजापुर से निकलने वाली ट्रेनों में यात्रियों को पानी पिलाते हैं. जिससे आने-जाने वाले लोगों को सुकून मिल रहा है. गिरिराज भक्त मंडल के लोग अक्सर जनरल डिब्बे के लोगों को पानी पिलाने जाते हैं, क्योंकि यहां लोग अक्सर भीड़ के चलते पानी लेने बाहर जाने से बचते हैं और प्यास से परेशान होते रहते हैं.

भक्त मंडल के प्रमुख गजेंद्र पाठक ने बताया कि यह सेवा 2 वर्ष पूर्व शुरू की थी, जो निरंतर जारी है. पाठक ने बताया कि हम भक्त मंडल के लोग अपने निजी खर्च से हजारों रुपए का पानी रेलवे स्टेशन पर ट्रेन के यात्रियों को पिलाते हैं. पानी पिलाने के लिए प्रेरणा हमें 2 साल पूर्व गिरीराज जी की यात्रा के समय मिली थी तब से रोजाना शाजापुर में गर्मी के समय रेलवे स्टेशन पर हम लोगों को पानी पिलाते हैं. पाठक ने बताया ट्रेन के सभी डिब्बों में भक्त मंडल के सदस्य ट्रैन आते ही हर डिब्बे में फैल जाते हैं और फटाफट-फटाफट लोगों को पानी पिलाते हैं. यही नहीं मंडल के लोग इन लोगों की खाली बॉटल भी भर देते हैं, ताकि इन्हें किसी तरह की समस्या न हो.

देखें लाइव टीवी

ट्रेन लेट हुई तो Railway सफर में देगा खाना, रेल मंत्री ने बताई पूरी प्लानिंग

मंडल के लोगों ने बताया कि वह यह जल सेवा अपने ही रुपयों से करते हैं, इसके लिए वह किसी से कोई मदद नहीं लेते हैं. न तो पानी और न ही रुपयों के लिए वह किसी पर आश्रित नहीं हैं. पाठक बताते हैं कि गर्मी में अक्सर ट्रेन में सफर कर रहे लोग परेशान हो जाते हैं, वहीं जो लोग अकेले सफर कर रहे होते हैं, वह बाहर जाने से भी डरते हैं. वहीं जनरल डिब्बे में सफर कर रहे लोग अपनी सीट खो जाने के डर से और भी बाहर नहीं जाते और प्यास से परेशान होते रहते हैं. ऐसे में मंडल के सदस्य पानी लेकर ट्रेनों में जाते हैं और प्यासों को पानी पिलाकर बाहर आ जाते हैं.