close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जिस जर्जर मकान के पीछे आकाश विजयवर्गीय ने निगम अधिकारी पर चलाया था बैट, वह आज हो गया ध्वस्त

निगम के बिल्डिंग ऑफिसर असित खरे ने बताया कि मकान में रह रहे भेरूलाल श्रीवंश का समान नगर निगम के डंपर की मदद से भूरी टेकरी स्थित शहरी गरीबों के फ्लैट (सी-20) में शिफ्ट करा दिया गया है.

जिस जर्जर मकान के पीछे आकाश विजयवर्गीय ने निगम अधिकारी पर चलाया था बैट, वह आज हो गया ध्वस्त
इसी मकान के पीछे आकाश विजयवर्गीय ने नगर निगम अधिकारी की बैट से पिटाई की थी. (फोटो साभारः ANI)
Play

नई दिल्लीः मध्य प्रदेश के इंदौर के गंजी कंपाउंड स्थित जिस जर्जर मकान को लेकर बीजेपी विधायक और भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बेटे आकाश विजयवर्गीय ने नगर निगम अधिकारी की सरेराह बल्ले से पिटाई की थी, वह आज गिरा दिया गया. इंदौर नगर निगम ने भारी पुलिस बल की मौजूदगी में विवादित मकान को गिराने का काम शुरू किया. ताकि किसी भी तरह की विवाद की स्थिति से निपटा जा सके. बता दें इस मकान के पीछे भाजपा विधायक आकाश विजयवर्गीय को तीन दिनों तक जेल की हवा खानी पड़ी थी.

गंजी कंपाउंड स्थित इस मकान के पीछे खड़ा हुआ विवाद हाई कोर्ट तक पहुंच गया, जिस पर कोर्ट ने इस घर को गिराने के आदेश दिए थे. कोर्ट ने नगर निगम के कामकाज को सराहते हुए कहा कि तस्वीरों से साफ है, कि मकान रहने लायक नहीं है. कोर्ट को इस मकान को गिराने में कानूनी नजर से कुछ गलत नहीं लगा. ऐसे में कोर्ट का फैसला आने के बाद आज नगर निगम के अधिकारी जेसीबी मशीन लेकर इंदौर के गंजी कंपाउंड पहुंचे और भारी पुलिस बल की मौजूदगी में इस जर्जर मकान को गिराने की कार्रवाई शुरू की. 

आकाश विजयवर्गीय मामला: 'बेटमैन' नेता पर BJP आज ले सकती है बड़ा फैसला

निगम के बिल्डिंग ऑफिसर असित खरे ने बताया कि मकान में रह रहे भेरूलाल श्रीवंश का समान नगर निगम के डंपर की मदद से भूरी टेकरी स्थित शहरी गरीबों के फ्लैट (सी-20) में शिफ्ट करा दिया गया है. बता दें मकान के पीछे खड़ा हुआ विवाद 26 जून का है, जिसके 9 दिन बाद इस मकान को तोड़ने की कार्रवाई की जा सकी है. वहीं मकान में रह रहे किराएदार को जिस फ्लैट में शिफ्ट कराया गया है उसने उस फ्लैट को खरीदने की इच्छा जाहिर की है, ताकि वह वहां पर स्थाई रूप से रह सके. इस पर उनसे इस फ्लैट को खरीदने के लिए फॉर्म भरने और छह से सात लाख रुपए देने की बात कही है.