close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मध्य प्रदेशः सतना से मैहर जा रही यात्री बस पलटने से 2 दर्जन से अधिक लोग घायल

जिसमें दो दर्जन से अधिक यात्री घायल हो गए. घायलों को फौरन उचेहरा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती किया गया, जहां पांच यात्रियों की हालत गम्भीर होने के चलते उन्हें सतना जिला अस्पताल के लिए रेफर किया गया है. घटना की वजह तेज रफ्तार बताई जा रही है.

मध्य प्रदेशः सतना से मैहर जा रही यात्री बस पलटने से 2 दर्जन से अधिक लोग घायल
फाइल फोटो

नई दिल्लीः मध्य प्रदेश के सतना के उचेहरा थाना अंतर्गत खुझा मोड़ पर बस पलटने से दो दर्जन यात्री घायल हो गए. बस सतना से मैहर जा रही थी कि तभी उचेहरा रेल्वे फाटक पर निर्माण कार्य चलने के कारण बस बाय पास से होकर जा रही थी. तभी अचानक ओवरटेक करने के चक्कर में बस खुझा मोड़ पर अनियंत्रित होकर पलट गई. जिसमें दो दर्जन से अधिक यात्री घायल हो गए. घायलों को फौरन उचेहरा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती किया गया, जहां पांच यात्रियों की हालत गम्भीर होने के चलते उन्हें सतना जिला अस्पताल के लिए रेफर किया गया है. घटना की वजह तेज रफ्तार बताई जा रही है.

मिली जानकारी के मुताबिक बस ड्राइवर जब ओवरटेक करने की कोशिश कर रहा था, तभी गाड़ी अनियंत्रित हो गई और उचेहरा रेलवे फाटक के पास पलट गई. घटना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है. बता दें सतना से मैहर जा रही दुर्घटना ग्रस्त बस अजय सिंह बस ट्रेवल की है. बस उस वक्त हादसे का शिकार हो गई जब बस रेल्वे फाटक में निर्माण कार्य होने के चलते बाय पास से होकर जा रही थी.

एमपी: बीजेपी की जीत को सेलिब्रेट कर रहे खरगौन के युवा, फ्री में बांट रहे पोहा और चाय

हादसे में सामान्य रूप से घायल यात्रियों को उचेहरा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में इलाज हेतु भर्ती किया गया है. वहीं गम्भीर 5 यात्रियों को सतना जिला अस्पताल रेफर किया गया है. उचेहरा थाना पुलिस ने यात्रियों की जान की परवाह किये बगैर तेजी लापरवाही से बस चलाने वाले चालक पर मामला कायम कर कार्रवाई शुरू कर दी है.

पेपर देने जा रहे थे छात्र, डिवाइडर से टकराई वैन, 2 की मौत, 8 घायल

बता दें यह पहली बार नहीं है जब सतना में इस तरह की लापरवाही सामने आई है. यहां अक्सर ही इस तरह की घटनाएं सामने आती रहती हैं, लेकिन इसके बाद भी यात्री गाड़ियों को चलाने वाले ड्राइवर संभल नहीं रहे हैं और जल्दबाजी के चलते अक्सर यात्रियों की जान खतरे में डालते दिखाई दे जाते हैं. वहीं प्रशासन भी तेज रफ्तार पर लगाम लगाने में लगातार नाकाम साबित हो रही है.