'जुगाड़' का इस्तेमाल किसान को पड़ा भारी, अचानक हुआ जोर का धमाका और उड़ गईं अंगुलियां

जुगाड़ तकनीक हमारे जीवन मे हर छोटी-बड़ी समस्या का समाधान बनता जा रहा है. लेकिन, कभी-कभी यह जुगाड़ इंसान की जान खतरे में डाल देता है.

'जुगाड़' का इस्तेमाल किसान को पड़ा भारी, अचानक हुआ जोर का धमाका और उड़ गईं अंगुलियां
भारत में जुगाड़ टेक्नोलॉजी हिट है. जुगाड़ तकनीक जितनी सस्ती और फायदेमंद है, उतनी ही खतरनाक भी है.

चन्द्रशेखर सोलंकी/रतलाम: किसी भी समस्या या परेशानी का हल किसी ऐसी चीज से निकालना, जो खराब पड़ी हो, जुगाड़ कहलाता है. भारत में जुगाड़ टेक्नोलॉजी हिट है. जुगाड़ तकनीक जितनी सस्ती और फायदेमंद है, उतनी ही खतरनाक भी है. ये कभी-कभी जान पर भी भारी पड़ जाती है. खेती में काम आने वाली जुगाड़ गाड़ी में कई बार हादसे में मौत की खबर सामने आई हैं. अब एक और खतरनाक जुगाड़ तकनीक सामने आई है. जिसमें हुए एक बड़े धमाके से एक किसान की जान पर बन आई. फिलहाल गंभीर घायल किसान का इलाज जारी है. 

दरअसल, रतलाम के रावटी क्षेत्र के गांव देवला के किसान राकेश गामड़ का गंभीर हालत में जिला अस्पताल में इलाज जारी है. घायल किसान खेत मे जुगाड़ तकनीक से 3 फेस मोटर को सिंगल फेस स्टार्टर की मदद से स्टार्ट कर रहा था. उसी दौरान कंडेनसर ब्लास्ट हो गया. धमाका इतना खतरनाक था कि किसान के हाथ की उंगलियां उड़ गईं. वहीं, उसके चेहरे और सीने पर गंभीर चोटें आई हैं. फिलहाल घायल किसान राकेश का गंभीर हालत में इलाज जारी है. 

रावटी बाजना क्षेत्र में खेत के लिए 3 फेस बिजली कम समय मिलने से किसान ने एक जुगाड़ टेक्निक लगाई. इन इलाकों के किसान 3 फेस बिजली बंद होने पर इस जुगाड़ टेक्निक से 3 फेस मोटर को सिंगल फेस स्टार्टर में ज्यादा कंडेनसर लगाकर मोटर चालू कर लेते हैं. लेकिन, यह जुगाड़ बहुत खतरनाक है. इस जुगाड़ में सिंगल फेस स्टार्टर के साथ 2 रनिंग कंडेंसर लगाकर एक स्टार्टर कंडेंसर को कुछ सेकंड के लिए वायर से टच कर 3 फेस मोटर को चालू किया जाता है. यह इतना खतरनाक है कि यदि स्टार्टर कंडेनसर के वायर कुछ सेकंड भी ज्यादा टच हो जाते है तो, ऐसे में कंडेंसर धमाके के साथ फट जाते हैं और यह धमाका एक कुएं खोदने के डाइनामाइट जैसा होता है. 

ये भी देखें:

इस जुगाड़ का खतरनाक अंजाम रावटी में देखने को मिला है. जुगाड़ तकनीक हमारे जीवन मे हर छोटी-बड़ी समस्या का समाधान बनता जा रहा है. लेकिन, कभी-कभी यह जुगाड़ तकनीक कुछ ऐसे कामों में उपयोग की जा रही है, जिनमें लापरवाही से इंसान की जान भी जा सकती है.