MP: एक साल बाद पुलिस के हत्थे चढ़ा करोड़ों के बैंक घोटाले की आरोपी

एसपी गुरशरण सिंह का कहना है कि करेली में हुए बैंक ऑफ बड़ौदा के घोटाले में मुख्य आरोपी हर्षित लुणावत को गिरफ्तार कर लिया गया है. 

MP: एक साल बाद पुलिस के हत्थे चढ़ा करोड़ों के बैंक घोटाले की आरोपी
पुलिस रिमांड खत्म होने के बाद हर्षित लुणावत को सीबीआई को सौंप दिया जाएगा.

नरसिंहपुर: नरसिंहपुर जिले के करेली में हुए लगभग 17 करोड़ के बैंक ऑफ बड़ौदा घोटाले में मुख्य आरोपी नटवरलाल कहे जाने वाले हर्षित लुणावत को एक वर्ष बाद पुलिस ने धर दबोचा है. इस घोटाले को सबसे पहले जी मीडिया ने उजागर किया था और इसके चलते यह घोटाला मध्यप्रदेश की सुर्खियां बन गया था. हालांकि, यह  मामला अब सीबीआई में भी दर्ज किया जा चुका है. जल्द ही हर्षित लुणावत को सीबीआई अपनी हिरासत में लेकर पूछताछ करेगी. इस मामले में हर्षित लुणावत की नवकार एसोसिएट नाम की फर्म से कई करोड़ रुपए हितग्राहियों के नाम से लोन पास कराकर  हजम कर लिए गए थे. वहीं, बैंक में नकली सोना रखकर करोड़ों के गोल्ड लोन कराए गए थे. 

बैंक ऑफ बड़ौदा में करोड़ों के गोल्ड व टर्म लोन घोटाले के मुख्य आरोपी हर्षित लुणावत को न्यायालय में पेश कर पुलिस ने 3 दिन की रिमांड पर लिया है. आरोपी हर्षित लुणावत को बैतूल में एक शादी समारोह से गिरफ्तार किया गया है. पीड़ित धर्मेंद्र उपाध्याय और सतीश यादव की शिकायत पर 17 जून 2019 को धारा 420, 467, 468, 477 और 34 के तहत एफआईआर दर्ज की गई थी. मंगलवार को गिरफ्तारी के समय धारा 120 बी और जोड़ी गई है. 

संगीन मामले को गिरफ्तारी तक पहुंचने में लगभग 14 माह का वक्त लग गया. आखिर क्या वजह थी कि एक बैंक घोटाले के आरोपी को पकड़ने में पुलिस को इतना पसीना बहाना पड़ा. यह मामला जी मीडिया ने नहीं उछाला होता तो, शायद आज भी यह गिरफ्तारी संभव नहीं थी क्योंकि हर्षित लुणावत के परिवार का जिले में रसूख था और जिसके चलते उस पर कोई हाथ डालने से बच रहा था.

एसपी गुरशरण सिंह का कहना है कि करेली में हुए बैंक ऑफ बड़ौदा के घोटाले में मुख्य आरोपी हर्षित लुणावत को गिरफ्तार कर लिया गया है. इस मामले में दो अलग-अलग जांच चल रही हैं. पहली जांच पुलिस के द्वारा की जा रही है जबकि, दूसरा मामला सीबीआई के द्वारा दर्ज किया गया है. हर्षित लुणावत को हमने 2 दिन की रिमांड पर लिया है और इसके बाद उसे सीबीआई को सौंप दिया जाएगा.