close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पहले रखवाई शराब की पेटियां, फिर खुद ही की जब्त और बोले- पैसे दो नहीं तो जेल भेज देंगे

पहले तो पुलिस ने ढाबे में शराब के पेटियां रखवाईं और फिर खुद ही उसको जब्त भी कर लिया. ढाबे पर खड़े होमगार्ड के सैनिक ने जब इसका विरोध किया तो उसके साथ मारपीट कर जबरन थाने ले गई. यह पूरा वाक्या ढाबे में लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई.

पहले रखवाई शराब की पेटियां, फिर खुद ही की जब्त और बोले- पैसे दो नहीं तो जेल भेज देंगे
सांकेतिक तस्वीर

(प्रदीप शर्मा)नई दिल्लीः भिंड में इन दिनों पुलिस बेकसूर लोगों पर झूठे मुकददमें दर्ज करने में जुटी हुई है. मामला भिंड जिले के ऊमरी थाना क्षेत्र के स्टेट हाईवे के किनारे बसे एक ढाबे का है. जहां पहले तो पुलिस ने ढाबे में शराब के पेटियां रखवाईं और फिर खुद ही उसको जब्त भी कर लिया. ढाबे पर खड़े होमगार्ड के सैनिक ने जब इसका विरोध किया तो उसके साथ मारपीट कर जबरन थाने ले गई. यह पूरी घटना ढाबे में लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई. इतना ही नहीं पुलिस ने मामला रफा-दफा करने के लिए पैसों की मांग भी की. पीड़ित होमगार्ड के सैनिक एसपी से लेकर मानवाधिकार आयोग तक शिकायत कर चुके हैं, लेकिन अभी तक कोई सुनवाई नही हुई. शिकायत के बाद पीड़ित को अब धमकियां दी जा रही हैं. हालांकि पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी मामले की जांच की बात कहे रहे हैं.

बता दें मामला भिंड के ऊमरी थाना क्षेत्र के स्टेट हाइवे का है, जहां हाइवे के किनारे महाकालेश्वर ढाबे में 10 मार्च 2019 को ऊमरी थाना प्रभारी तीमेश छारी सहित आधा दर्जन पुलिसकर्मी कार में सवार होकर पहुंचे. फिर शराब की पेटियां यहां रखवा दीं. यही नहीं जब इसका विरोध ढाबे पर खड़े होमगार्ड के सैनिक बरखुद्दार ने किया तो पुलिस ने उस पर जमकर थप्पड़ बरसाए. पीड़ित का कहना है कि थाना प्रभारी तीमेश छारी ने मामला रफा-दफा करने के नाम पर एक लाख की डिमांड की थी. पैसे पहुचने के बाद पांच पेटी शराब के साथ मामला दर्ज कर जेल भेज दिया गया. जिसके चलते होमगार्ड के सैनिक को निलंबित कर दिया. 

MP: पुलिसकर्मियों की आंखों में मिर्ची झोंककर 17 हत्याओं के आरोपी को ले भागे बदमाश

पीड़ित ने इस घटना की शिकायत पुलिस अधीक्षक से लेकर मानवाधिकार और निर्वाचन आयोग से की, लेकिन एक माह बीत जाने के बाद अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई. शिकायत के बाद पीड़ित बरखुद्दार दहशत में है. उसका कहना है कि उच्च अधिकारी से शिकायत के बाद थाना प्रभारी तीमेश छारी द्वारा मामला वापस लेने के लिए धमकी दी जा रही है. जिससे वह दहशत में है. वहीं बात थाना प्रभारी पर आई तो पुलिस अधीक्षक रुडोल्फ अल्वारेस उन्हें बचाने पर उतर आए हैं और इस मामले से खुद को अनभिज्ञ बताकर रटा-रटाया जवाब दे दिया.

सीकर: दुल्हन अपहरण मामले में पांच आरोपी हिरासत में, पुलिस ने बनाई स्पेशल टीम

ऊमरी थाना पुलिस की फर्जी कार्यवाही का यह पहला मामला नहीं है. पांच दिन पहले भी पुलिस हत्या के प्रयास के आरोपी को पकड़कर शराब की पेटी रखकर आबकारी एक्ट के तहत मामला दर्ज कर जेल भेज चुकी है. इस फर्जी कार्रवाई की भी शिकायत आरोपी के परिजन पुलिस अधीक्षक से कर चुके है. लेकिन वो इन फर्जी कार्रवाई पर चुप्पी साधे हुए हैं.