इंदौर: CAA-NRC को लेकर कैलाश विजयवर्गीय बोले, ''किसी को नहीं है डरने की जरूरत''

भाजपा के वरिष्ठ नेता और राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने जनता को आश्वस्त किया कि सरकार के ये कदम जरूरी हैं. इनसे किसी को भी डरने की जरूरत नहीं है.  

इंदौर: CAA-NRC को लेकर कैलाश विजयवर्गीय बोले, ''किसी को नहीं है डरने की जरूरत''
कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कैलाश विजयवर्गीय ने कहा "किसी भी तरह का प्रदर्शन करने से पहले देश के बारे में सोचना चाहिए, ना कि अपने राजनीतिक फायदे के बारे में"

सिद्धार्थ पुरोहित/इंदौर: नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और NRC के खिलाफ जहां एक तरफ कांग्रेस (Madhya Pradesh Congress) प्रदर्शन कर रही, तो वहीं भाजपा (Madhya Pradesh BJP) जनता को CAA और NRC को लेकर जागरूक कर रही है.

भाजपा के वरिष्ठ नेता और राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने जनता को आश्वस्त किया कि सरकार के ये कदम जरूरी हैं. इनसे किसी को भी डरने की जरूरत नहीं है.

जी मीडिया से बातचीत करते हुए कैलाश विजयवर्गीय ने CAA और NRC का विरोध कर रही कांग्रेस पर भी निशाना साधा, उन्होंने कहा कि कांग्रेस राजनीतिक रोटियां सेक रही है. इससे देश का भला नहीं होगा.

साथ ही कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि एनपीआर से किसी को भी डरने की जरूरत नहीं है. कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि किसी भी तरह का प्रदर्शन करने से पहले देश के बारे में सोचना चाहिए, ना कि अपने राजनीतिक फायदे के बारे में.

बुधवार को कांग्रेस ने निकाली थी 'संविधान बचाओ न्याय शांति यात्रा’

गौरतलब है कि बुधवार को मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की राजधानी भोपाल (Bhopal) में कांग्रेस ने CAA (नागरिकता संशोधन कानून) और NRC (राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर) के विरोध में शांति मार्च निकाला. इसका नेतृत्व खुद सूबे के मुख्यमंत्री कमलनाथ (CM KamalNath) ने किया.

रोशनपुरा चौराहे से शुरू हुई कांग्रेस की 'संविधान बचाओ न्याय शांति यात्रा’ मिंटो हाल जाकर खत्म हुई. इस दौरान सीएम कमलनाथ के साथ उनकी कैबिनेट के मंत्री और कांग्रेस कार्यकर्ता मौजूद रहे. पैदल मार्च में हजारों की संख्या में लोग गांधी टोपी पहनकर और हाथों में तिरंगा लेकर निकले. इस दौरान CAA और NRC को लेकर केन्द्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई.

सीएम कमलनाथ ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि ये शांति मार्च नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ था. हम संविधान के साथ खिलवाड़ नहीं होने देंगे. सीएम ने कहा कि अनेकता में एकता भारत की संस्कृति है और ये ही कांग्रेस की भी संस्कृति है. सीएम ने कहा कि मैंने अपने संसदीय जीवन में संविधान का उल्लंघन करने वाला ऐसा कानून नहीं देखा. इस कानून का उपयोग कम और दुरुपयोग ज्यादा होगा.