close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मध्यप्रदेश: शौचालय में बच्चों के लिए बन रहा है मिड-डे मील, मंत्री बोलीं- 'तो इसमें गलत क्या है?'

शौचालय को रसोई बनाने का मामला अजीब जरूर लगता है लेकिन करैरा के आंगनबाड़ी केंद्र में शौचलय बनाकर इसका रोज उपयोग बच्चों को मिड डे मील बनाने में हो रहा है. 

मध्यप्रदेश: शौचालय में बच्चों के लिए बन रहा है मिड-डे मील, मंत्री बोलीं- 'तो इसमें गलत क्या है?'
जब आंगनबाड़ी केंद्र के शौचालय में रसोई चलाने का मामला सामने आया तो हमने यहां से इसे हटवा दिया है.

शिवपुरी (दीपक अग्रवाल): देश के पीएम नरेंद्र मोदी स्वच्छता अभियान के अंतर्गत ज्यादा से ज्यादा शौचालयों निर्माण पर जोर दे रहे हैं, लेकिन शिवपुरी जिले में स्वच्छता अभियान के अंतर्गत बनाए जाने वाले शौचालयों को उपयोग लोग अपने-अपने ढंग से कर रहे हैं. शिवपुरी जिले के करैरा के सिलानगर पोखर आंगनबाड़ी केंद्र पर बनाए गए शौचालय का निर्माण यहां पर रसोई के रूप में किया जा रहा है. 

बच्चों के लिए बनता है मिड डे बिल
शौचालय को रसोई बनाने का मामला अजीब जरूर लगता है लेकिन करैरा के आंगनबाड़ी केंद्र में शौचलय बनाकर इसका रोज उपयोग बच्चों को मिड डे मील बनाने में हो रहा है. करैरा के सिलानगर पोखर का आंगनबाड़ी केंद्र में यहां छोटे-छोटे मासूम बच्चे बड़े मजे से मिड डे मील का स्वाद चख रहे हैं, लेकिन इन्हें नहीं मालूम कि जिस जगह ये भोजन बना है वो कभी शौचालय था. जब यह मामला सामने आया था अब आंगनबाड़ी केंद्र की कार्यकर्ता राजकुमारी योगी ने कहा कि यह बात सही है कि यहां पर शौचालय के एक हिस्से में खाना बनता है लेकिन वह समूह से कई बार कह चुकी हैं कि वह खाना अन्य जगह पर बनाए. 

देखिए LIVE TV

सरकारी राशि से बने शौचालयों का मनमाना उपयोग 
आंगनबाड़ी केंद्र पर चल रही इस मनमानी को लेकर जब महिला एवं बाल विकास विभाग की सीडीपीओ प्रियंका बुनकर से बात की गई तो वह बचाव में आई और बोली कि वहां पर जो शौचालय बना है वह आधा-अधूरा है और वहां पर पानी की कमी के चलते उसका उपयोग शौचालय के रूप में नहीं हुआ है. कुल मिलाकर अब सब बचाव में आ गए हैं और मामले में लीपापोती की जा रही है. 

शौचालयों के स्थान पर किराने की दुकान
ऐसे ही दो मामले बदरवास में भी सामने आए थे जब वहां पर कुछ लोगों के घरों पर बनाए गए शौचालयों में किराने की दुकान और रसोई बना ली गई थी. क्योंकि गांव में पानी की कमी के चलते शौचालय तो सरकारी मदद से बना लिए गए लेकिन उसका उपयोग शौच के लिए नहीं किया गया. 

क्या कहते हैं अधिकारी
जब आंगनबाड़ी केंद्र के शौचालय में रसोई चलाने का मामला सामने आया तो हमने यहां से इसे हटवा दिया है. शौचालय पूरा बना नहीं था इसलिए इस भवन में समूह के द्वारा खाना बनाया जा रहा था. समूह की संचालिका और आंगनाबाड़ी कार्यकर्ता को नोटिस भी दिया है. खाना बनाने के लिए दूसरे स्थान की व्यवस्था भी की है.

शौचालय के अंदर खाना बनाने में दिक्कत नहीं: मंत्री
इस मामले में मंत्री इमरती देवी का एक बयान भी सामने आया है, जिसमें उन्होंने कहा है कि शौचालय के अंदर खाना बनाने से कोई समस्या नहीं है. अगर टॉयलेट शीट और स्टोव के बीच विभाजन हो. उन्होंने यह भी कहा कि आजकल घरों में भी अटैच लेटरिन-बाथरूम होते हैं. अगर आपके घर आने वाले रिश्तेदार खाना खाने से इनकार कर दें, क्योंकि आपके यहां अटैच लेटरिन-बाथरूम हैं. उस स्कूल में टॉयलेट शीट बजरी से भरा हुआ है. इस बारे में जांच भी शुरू कर दी गई है.