वैक्सीनेशन का टॉपर MP: 10 दिन में 50 लाख का टारगेट, 3 दिन में लगे 27 लाख डोज, इंदौर सबसे आगे

प्रदेश ने 10 दिन में 50 लाख टीके लगाने का टारगेट रखा, राज्य में तीन ही दिनों में 27 लाख वैक्सीन डोज लगाए जा चुके हैं.

वैक्सीनेशन का टॉपर MP: 10 दिन में 50 लाख का टारगेट, 3 दिन में लगे 27 लाख डोज, इंदौर सबसे आगे
मध्य प्रदेश में वैक्सीनेशन के नए रिकॉर्ड बन रहे हैं

भोपालः कोरोना केस के मामलों में देश के टॉप-5 राज्यों में जगह बनाने वाले मध्य प्रदेश ने वैक्सीनेशन में भी नया रिकॉर्ड बनाया. प्रदेश में पिछले तीन दिनों में दो बार दस लाख से ज्यादा वैक्सीन लगीं. देश में बुधवार शाम 6 बजे के आंकड़ों के अनुसार देश में कुल 59 लाख डोज लगे. जिनमें 20% वैक्सीन मध्य प्रदेश में लगीं. महाराष्ट्र, दिल्ली और उत्तर प्रदेश जैसे कई बड़े राज्य इसमें पिछड़ गए. राज्य ने 21 जून को महावैक्सीनेशन अभियान में भी वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाते हुए 17 लाख टीके लगाए थे, जो गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी शामिल हुआ. 

10 दिन में 50 लाख का टारगेट
मध्य प्रदेश 21 जून से महावैक्सीनेशन अभियान शुरू किया गया. पहले दिन 17 लाख टीकों के बाद, 22 जून को टीके नहीं लगे, वहीं 23 जून को 10 लाख 50 हजार से ज्यादा टीके लगाए गए. प्रदेश ने 10 दिन में 50 लाख टीके लगाने का टारगेट रखा, राज्य में तीन ही दिनों में 27 लाख वैक्सीन डोज लगाए जा चुके हैं. 

यह भी पढ़ेंः- MP के ब्लैकमेलर पुलिसकर्मीः आरोपी महिला युवाओं को बहलाकर बनाती थी Video, फिर मिलकर ऐसे लूटते थे रुपए

इंदौर सबसे आगे
राज्य के सभी जिलों की बात करें तो कोरोना केस के आंकड़ों में सबसे आगे रहने वाला इंदौर शहर वैक्सीनेशन में भी सबसे आगे है. इंदौर में करीब 1.55 लाख डोज लगीं, जबकि राजधानी भोपाल इस मामले में पीछे हैं. यहां 9 घंटों में 55 हजार टीके लगने की जानकारी मिली. जबलपुर भी भोपाल से आगे है, यहां 58 हजार और ग्वालियर में 20 हजार लोगों को वैक्सीन लगाई गई. डिंडोरी जिला सबसे पिछड़ा रहा, यहां 4,919 लोगों को वैक्सीन लगी. 

30 जून तक चलेगा अभियान
बता दें मध्य प्रदेश में 21 जून से शुरू हुआ महा वैक्सीनेशन अभियान 30 जून तक चलेगा. महा वैक्सीनेशन का दूसरा फेज 1 से 3 जुलाई तक रहेगा. राज्य में अब तक करीब 1.78 करोड़ वैक्सीन डोज लग चुकी हैं. 1.56 करोड़ को पहला और 21.98 लाख लोगों को वैक्सीन का दूसरा डोज लगा है. 

यह भी पढ़ेंः- मध्य प्रदेश में जल्द खुल सकते हैं स्कूल-कॉलेज, उच्च शिक्षा मंत्री ने दिए इस बात के संकेत

प्रदेश को एक्सट्रा 5 लाख डोज
मध्य प्रदेश के टीकाकरण अधिकारी डॉ संतोष शुक्ला ने बताया कि राज्यों में वैक्सीन की उपलब्धता को देखते हुए केंद्र सरकार ने वैक्सीन देने का सिस्टम बदला. राज्य अब हर दिन उनकी मांग नहीं भेजते. बल्कि केंद्र कोविन ऐप पर राज्य के वैक्सीनेशन आंकड़ों को देखते हुए ही टीके प्रोवाइड करवाता है. इसी को देखते हुए मंगलवार को प्रदेश में 5 लाख एक्सट्रा वैक्सीन डोज दिए गए. 

इस वजह से हुआ रिकॉर्ड वैक्सीनेशन
केंद्र सरकार 18 से ज्यादा उम्र के लोगों के लिए वैक्सीन के लिए पहले रुपए ले रही थी. मोदी सरकार ने 7 जून को घोषणा करते हुए बताया था कि 18 से ज्यादा उम्र के लोगों की वैक्सीन भी अब राज्यों को मुफ्त ही मिलेंगी. केंद्र सरकार ने इसे 21 जून से लागू भी कर दिया. जिसे सफल बनाने के लिए राज्यों, खासकर बीजेपी शासित राज्यों ने वैक्सीनेशन का महा अभियान शुरू किया. इसी महा अभियान के कारण मध्य प्रदेश में करीब 17 लाख लोगों को वैक्सीन लगीं, जो कि गिनीज बुक ऑफ वर्लड रिकॉर्ड में भी शामिल किया गया. 

यह भी पढ़ेंः- 'वैक्सीन नहीं तो तहसील में एंट्री भी नहीं'! MP के इस जिले के एसडीएम ने निकाला अनोखा फरमान

WATCH LIVE TV