महिला दिवस पर आधी आबादी को बड़ी सौगात देने जा रही शिवराज सरकार, मिलेगा बड़ा फायदा

महिला दिवस पर शिवराज सरकार ब्लड कलेक्शन ट्रांसपोर्टेशन वैन "रक्त वाहिनी'' योजना की शुरूआत करने जा रही है. 

महिला दिवस पर आधी आबादी को बड़ी सौगात देने जा रही शिवराज सरकार, मिलेगा बड़ा फायदा
शिवराज सिंह चौहान, मुख्यमंत्री, मध्य प्रदेश (फाइल फोटो)

भोपालः महिला दिवस पर शिवराज सरकार महिलाओं को एक बड़ी सौगात देने जा रही है. राजधानी भोपाल सहित प्रदेश के 24 जिलों में मोबाइल ब्लड बैंक की शुरूआत की जा रही है. जिसे रक्त वाहिनी नाम दिया गया है. प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी महिला दिवस के अवसर पर इस ब्लड कलेक्शन ट्रांसपोर्टेशन वैन "रक्त वाहिनी'' को हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे. 

क्या है रक्त वाहिनी 
दरअसल, मध्य प्रदेश का स्वास्थ्य विभाग रक्तदान को बढ़ावा देने के लिए प्रदेश के 24 जिलों में बीसीटी यानी ब्लड कलेक्शन ट्रांसपोर्टेशन रक्त वाहिनी वाहन चलाने की शुरूआत महिला दिवस से करने जा रहा है. प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी ने बताया कि इस योजना की शुरूआत करने का प्रमुख उद्देश्य रक्तदान के प्रति लोगों को जागरूक करना है. उन्होंने बताया कि अब तक रक्तदान के लिए बड़े-बड़े शिविरों का आयोजन कराया जाता था. लेकिन रक्त वाहिनी का सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि अब रक्तदान करने के लिए बड़े शिविर का आयोजन करना जरूरी नहीं होगा. अब अगर कोई रक्तदान करना चाहता है तो यह वैन उसके घर तक जाएगी और उसका ब्लड जमा करेगी.  

महिलाओं को मिलेगा सबसे ज्यादा लाभ 
मंत्री प्रभुराम चौधरी ने बताया कि अगर एक परिवार के लोग रक्तदान करना चाहते है तो तो यह वैन घर पहुंच जाएगी. इसके अलावा ग्रामीण क्षेत्रों के हाट बाजार, छोटे मोहल्ले, कॉलोनियों में भी इस वैन को ले जाया जाएगा. जहां अपनी इच्छा से लोग रक्तदान कर सकेंगे. उन्होंने कहा कि इस योजना का सबसे ज्यादा लाभ महिलाओं को मिलेगा. क्योंकि अक्सर इलाज के दौरान महिलाओं को सबसे ज्यादा ब्लड की जरूरत पड़ती है. ऐसे में रक्त वाहिनी में जो ब्लड जमा होगा उसे जहां भी जरूरत होगी जल्दी से जल्दी पहुंचाया जाएगा. 

ये भी पढ़ेंः CM शिवराज ने जनजातीय समुदाय के छात्रों के लिए की बड़ी घोषणाएं, प्रेरणा दिवस के रूप में मनाएंगे रानी दुर्गावती का बलिदान दिवस

स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि रक्त वाहिनी के लिए प्रारंभिक तौर पर 45 जिलो से टेंडर बुलाए गए थे. जिनमें से 24 जिलों में रक्त वाहिनी की तैनाती की जा रही है. उन्होंने कहा कि इस वाहन का पहला लक्ष्य अस्पताल के लिए इलाज में भर्ती महिलाओं को खून की उपलब्धि कराना होगा. 

दरअसल, अस्पतालों में भर्ती मरीजों को जरूरत के समय रक्त नहीं मिलने से कई बार उनकी जान पर बन आती है. क्योंकि प्रदेश के ब्लड बैंकों में अक्सर रक्त की कमी बनी रहती है. इतना ही नहीं मध्यप्रदेश में मातृ मृत्यु दर का सबसे बड़ा कारण एनीमिया यानी खून की कमी ही माना जाता है.  ऐसे में स्वास्थ्य विभाग ने रक्तदान को बढ़ावा देने के लिए सभी जिलों को बीसीटी यानी ब्लड कलेक्शन ट्रांसपोर्टेशन रक्त वाहिनी योजना शुरू करने की तैयारी की है. ताकि मरीजों को समय से ब्लड मिल सके. 

ये भी पढ़ेंः मध्य प्रदेश विधानसभा में महिला दिवस के दिन 'धार्मिक स्वतंत्रता विधेयक' पर होगी चर्चा

WATCH LIVE TV