दुनिया भर में फैला था जिसका धंधा, वो डॉन जिसने ''भगवान' को लूटा

पीएम ने कहा, " माता अन्नपूर्णा एक बार फिर अपने घर लौटकर आ रही हैं. काशी के लिए ये बड़े सौभाग्य की बात है. हमारे देवी-देवताओं की ये प्राचीन मूर्तियां, हमारी आस्था के प्रतीक के साथ ही हमारी अमूल्य विरासत भी हैं. ये बात भी सही है कि इतना प्रयास अगर पहले किया गया होता, तो ऐसी कितनी ही मूर्तियां, देश को काफी पहले वापस मिल जातीं."

दुनिया भर में फैला था जिसका धंधा, वो डॉन जिसने ''भगवान' को लूटा

नई दिल्ली: क्या आप जानते हैं कि प्राचीन मूर्तियों की तस्करी का अंतर्राष्ट्रीय रैकेट कैसे चलता है? क्या आप जानते हैं कि मूर्ति चोरों के अंडरवर्ल्ड का सबसे बड़ा डॉन कौन है? अमेरिका से स्मगलिंग रैकेट चलाने वाला वो डॉन कौन था, जिसके इशारे पर वर्षों तक देश के अलग-अलग हिस्से से मूर्तियां चुराईं जातीं रहीं, सारी सुरक्षा व्यवस्था को भेदते हुए उन्हें इंटरनेशनल मार्केट में पहुंचा दिया जाता था? ये सवाल हम इसलिए पूछ रहे हैं क्योंकि वाराणसी में देव दीपावली पर हुए भव्य कार्यक्रम में पीएम मोदी ने देश को याद दिलाया कि काशी के लिए एक विशेष अवसर आने वाला है. करीब 100 साल पहले माता अन्नपूर्णा की जो मूर्ति काशी से चोरी हो गई थी, वो वापस आ रही है.

यूजीसी नेट जून 2020 एग्जाम रिजल्ट जारी, यहां देखें स्कोरकार्ड @ugcnet.nta.nic.in

पीएम ने कहा, " माता अन्नपूर्णा एक बार फिर अपने घर लौटकर आ रही हैं. काशी के लिए ये बड़े सौभाग्य की बात है. हमारे देवी-देवताओं की ये प्राचीन मूर्तियां, हमारी आस्था के प्रतीक के साथ ही हमारी अमूल्य विरासत भी हैं. ये बात भी सही है कि इतना प्रयास अगर पहले किया गया होता, तो ऐसी कितनी ही मूर्तियां, देश को काफी पहले वापस मिल जातीं." देश से चोरी गई बहुत सी प्रतिमाएं पीएम मोदी की कोशिशों से वापस भारत लाई जा चुकीं हैं. 2016 में जब पीएम अमेरिका की यात्रा पर गए थे तब भारत को छोटी-बड़ी 200 मूर्तियां लौटाईं गईं थीं.  

इसमें कोई शक नहीं कि मोदी सरकार के प्रयासों से कनाडा की रेजिना यूनिवर्सिटी मां अन्नपूर्णा की मूर्ति वापस करने पर राजी हो गई. एक हाथ में खीर और दूसरे हाथ में चम्मच लिए हुए मां अन्नपूर्णा की इस मूर्ति को अवैध तरीके से भारत के बाहर ले जाया गया था. सौभाग्य से ये मूर्ति अब भारत वापस आएगी. हालांकि ऐसी बहुत सी मूर्तियां अभी भी विदेशों में अमीरों के ड्राइंग रूम और संग्रहालयों की शोभा बढ़ा रहीं हैं जिन्हें चोरी-छिपे तस्करी के जरिए विदेश ले जाया गया. अपने देश के दूरदराज के इलाकों में छोटे-बड़े ऐसे बहुत से मंदिर हैं जहां देवी-देवताओं की प्राचीन मूर्तियों का खजाना है. वो मूर्ति चोरों का आसान शिकारगाह हैं. उन मंदिरों में रखीं मूर्तियां अपनी कलात्मकता और मूर्ति कला के लिए विश्वविख्यात हैं. विदेशों के चोर-बाजार में इनकी बहुत मांग है और इनके बदले ऊंचे दाम मिलते हैं. इतने ऊंचे दाम कि उनकी कीमत सुन कर शायद आपका मुंह खुला रह जाए.

कॉलेज बंद होने से हैं परेशान? अब घर बैठे टीवी देखकर करें पढ़ाई, ये रहा शेड्यूल

मंदिर से चोर-बाजार तक: इंटरनेशनल रैकेट
मिसाल के तौर पर तमिल नाडु के एक मंदिर से 2005 में चोरी हुई 'उमा परमेश्वरी' की एक मूर्ति की 2008 में 25 लाख डॉलर की कीमत लगाई गई थी. रुपयों में कहें तो उस वक्त के हिसाब से करीब 11 करोड़ रुपए. उस मूर्ति को तमिल नाडु से चोरी करने के बाद भारत से तस्करी कर हॉन्ग कॉन्ग ले जाया गया, वहां से चोरी छिपे मूर्ति को लंदन पहुंचाया गया. लंदन में विशेषज्ञों नें करोड़ों रुपए में उस मूर्ति को रीस्टोर किया, उसे नया सा बनाया और फिर उसे न्यूयॉर्क पहुंचा दिया गया. 2008 में न्यूयॉर्क में एक आर्ट डीलर ने उसे अपने कैटलॉग में रख दिया ताकि उसकी बोली लगाई जा सके, उसका नाम सुभाष कपूर था. अमेरिका के सबसे बड़े आर्ट डीलरों में एक लेकिन ये छवि 2011 में टूट गई जब सुभाष कपूर जर्मनी के फ्रैंकफर्ट एयरपोर्ट पर गिरफ्तार हो गया. तब दुनिया को पता चला कि जिसे वो आर्ट डीलर समझती आई थी, दरअसल वो दुनिया में चोरी की मूर्तियों और कलाकृतियों का सबसे बड़ा चोर था, कलाकृतियों की चोरी करने वाले अंडरवर्ल्ड का सबसे बड़ा डॉन. उसका रैकेट इतना बड़ा था कि भारत ही नहीं पाकिस्तान, अफगानिस्तान, थाईलैंड और नेपाल के मंदिरों से चोरी की गईं मूर्तियां, उसके पास अपने आप पहुंच जातीं थीं.  

ससुराल वाले कहते उर्दू-अरबी सीखो, भागकर मायके पहुंची महिला, बोली- ''हिंदू हूं, वहीं रहूंगी''

'ऑपरेशन हिडेन ऑयडल': अमेरिका में FBI का फंदा
दुनिया के सामने सुभाष कपूर की दोहरी जिंदगी का सच 2011 में आया लेकिन कानून की निगाहों में वो फरवरी 2007 को ही आ चुका था. दरअसल उस दिन न्यूयॉर्क में पानी के जहाज से फर्नीचर का एक कन्साइंगमेंट पहुंचा था. हकीकत में उसमें फर्नीचर नहीं बल्कि चोरी की मूर्तियां थीं. अमेरिका और मुंबई दोनों ही जगह पुलिस से किसी ने ये मुखबिरी की थी कि उसमें चोरी की कलाकृतियां हैं, लिहाजा उसके न्यूयार्क पहुंचते ही उसे जब्त कर लिया गया. पुलिस को अब इंतजार था कि उसकी दावेदारी लेने कौन आता है? लेकिन सुभाष कपूर के जासूसों का जाल बहुत मजबूत था. उसे खबर लग गई और उस माल को लेने कोई भी बंदरगाह नहीं पहुंचा. इसके बाद FBI ने 'ऑपरेशन हिडेन ऑयडल' नाम से एक खुफिया अभियान शुरू किया. जुर्म की तह तक पहुंचने की महारत के लिए मशहूर FBI ने आखिरकार कलाकृतियों के उस चोर का पता लगा ही लिया. 2011 में FBI द्वारा जारी इंटरपोल नोटिस के आधार पर सुभाष कपूर को जर्मनी के फ्रैंकफर्ट एयरपोर्ट पर गिरफ्तार कर लिया गया.

कारागार में कपूर: भारत का गुनहगार
FBI द्वारा जारी इंटरपोल नोटिस पर जर्मनी में गिरफ्तारी के बावजूद सुभाष कपूर को भारत प्रत्यार्पित किया गया. कपूर तमिल नाडु के त्रिचरापल्ली की सेंट्रल जेल में बंद है. चोरी की कलाकृतियों के अंडरवर्ल्ड के बहुत से राज अब बाहर आ चुके हैं. इस मामले में 2016 में तमिल नाडु पुलिस के मूर्ति चोरी के खिलाफ बने विभाग के दो पुलिस अफसर भी गिरफ्तार हुए. खबरों के मुताबिक जिस विभाग को मूर्तियों की चोरी रोकने के लिए बनाया गया था, उसके बहुत से पुलिस वाले विभीषण साबित हुए. सुभाष कपूर के इशारे पर उनके संरक्षण में चोरों का एक नेटवर्क मंदिरों से मूर्तियों की चोरी करता था. 

Alert: इंटरनेट से मिला फेक कस्टमर केयर नंबर, फोन किया तो कट गए 1 लाख रुपए!

 

वर्दीवालों के बीच 'विभीषण'
खबरों के मुताबिक कुछ मूर्तियों की हूबहू नकल तैयार की गई फिर गिरफ्तार पुलिस वालों की मदद से उन्हें सरकारी सेफहाउस में रखने के नाम पर सुभाष कपूर को दे दिया गया, मंदिरों को जब सेफ हाउस से मूर्तियां वापस की गईं तो वो असली नहीं बल्कि नकली मूर्तियां थीं.  चोरी की असली मूर्तियों को चेन्नई और मुंबई के कुछ ऑर्ट डीलर अपने गोदामों में छिपाते थे. फिर उन्हें हॉन्ग कॉन्ग और यूरोप के रास्ते से होते हुए अमेरिका पहुंचा दिया जाता था. इस बीच उन कलाकृतियों को नए सिरे से सजा संवार लिया जाता था. फिर नकली दस्तावेजों के आधार पर उन्हें नई पहचान दे कर ऑर्ड गैलरी में नीलामी के लिए रखवा दिया जाता था. इस तरह से भारत के मंदिरों की मशहूर मूर्तियां कानून की नाक के नीचे आराम से खरीदी और बेच दी जाती थीं.

VIDEO: दो पैर वाले देसी डॉग को लंदन के शख्स ने लिया गोद, इलाज के लिए 18 नवंबर को जाएगा समंदर पार

Video: फटाफट अंदाज में देखिए आज की 80 जिलों की 80 बड़ी खबरें​

VIDEO: छत्तीसगढ़ कांग्रेस में होने वाली नियुक्तियों पर सियासत​

Watch Live TV-