मुंबई में फ्लैट में मिला बुजुर्ग का कंकाल, बेटा विदेश में रहता था!

अमेरिका में बसे इंजीनियर रितुराज साहनी जब मुंबई में रहने वाली अपनी मां से मिलने पहुंचे तो फ्लैट के अंदर का नजारा देखकर उनके होश उड़ गए. दरअसल अमेरिका से लौटे साहनी रविवार सुबह फ्लैट में अपनी मां के पास पहुंचे थे. लेकिन बहुत देर तक दरवाजा खटखटाने पर भी अंदर से कोई बाहर नहीं आया. इस पर साहनी चिंतित हुए और नकली चाबी की मदद से दरवाजा खोला. लेकिन बेडरूम में जाकर देखा तो वहां 63 साल की मां का सिर्फ कंकाल बचा था. पूरा शरीर बुरी तरह सड़ चुका था.

मुंबई: अमेरिका में बसे इंजीनियर रितुराज साहनी जब मुंबई में रहने वाली अपनी मां से मिलने पहुंचे तो फ्लैट के अंदर का नजारा देखकर उनके होश उड़ गए. दरअसल अमेरिका से लौटे साहनी रविवार सुबह फ्लैट में अपनी मां के पास पहुंचे थे. लेकिन बहुत देर तक दरवाजा खटखटाने पर भी अंदर से कोई बाहर नहीं आया. इस पर साहनी चिंतित हुए और नकली चाबी की मदद से दरवाजा खोला. लेकिन बेडरूम में जाकर देखा तो वहां 63 साल की मां का सिर्फ कंकाल बचा था. पूरा शरीर बुरी तरह सड़ चुका था.

महिला का नाम आशा साहनी है. उनके पति केदार साहनी की 2013 में डेथ हो चुकी है. रितुराज परिवार समेत अमेरिका में रहता है. फ्लैट में मां का कंकाल देखकर रितुराज ने ही पुलिस को जानकारी दी. कंकाल का पंचनामा कर पुलिस ने उसे पोस्टमॉर्टम के लिए गोरेगांव स्थित एक हॉस्पिटल भेज दिया.

पुलिस के मुताबिक, आशा ने अप्रैल 2016 में आखिरी बार बेटे को फोन करके कहा था कि वे अब अकेलेपन में नहीं रहना चाहतीं और किसी वृद्धाश्रम में चली जाएंगी.बता दें कि आशा साहनी के नाम पर बेलस्कॉट टॉवर में करीब 5 से 6 करोड़ रुपए के दो ‌फ्लैट हैं.

मीडिया सूत्रों के मुताबिक आशा साहनी की संदिग्ध स्थिति में हुई मौत की गुत्थी पोस्टमॉर्टम और फोरेंसिक रिपोर्ट, रितुराज के मोबाइल कॉल्स के डिटेल (सीडीआर), सीसीटीवी और अन्य सुरागों की जांच से सुलझ सकती है. पुलिस को आशंका है कि भूख और कमजोरी से आशा की मौत हुई.