योग को जीवन का अभिन्न हिस्सा बनायें: राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने आज कहा कि लोगों को शरीर और मस्तिष्क के बीच पूर्ण सामंजस्य के लिए योग को जीवन का अभिन्न हिस्सा बनाना चाहिए। मुखर्जी ने दूसरे अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर राष्ट्रपति भवन में योग समारोह की शुरूआत की जिसमें करीब एक हजार लोगों ने हिस्सा लिया।

योग को जीवन का अभिन्न हिस्सा बनायें: राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी

नई दिल्ली: राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने आज कहा कि लोगों को शरीर और मस्तिष्क के बीच पूर्ण सामंजस्य के लिए योग को जीवन का अभिन्न हिस्सा बनाना चाहिए। मुखर्जी ने दूसरे अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर राष्ट्रपति भवन में योग समारोह की शुरूआत की जिसमें करीब एक हजार लोगों ने हिस्सा लिया।

इस मौके पर लोगों को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि लोगों को योगा5यास को जीवन का अभिन्न हिस्सा बनाना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘योग से लोग स्वस्थ जीवन जी सकेंगे। यह शरीर और मस्तिष्क के बीच संपूर्ण सामंजस्य स्थापित करेगा। इससे मानसिक और शारीरिक सुख में वृद्धि होगी।’

राष्ट्रपति ने याद किया कि 11 दिसंबर, 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस घोषित करने से संबंधित प्रस्ताव को पारित किया गया। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने योग दिवस के अवसर पर राष्ट्रपति भवन में 1,000 लोगों के साथ योगासन किए। देश भर में योग दिवस के आयोजन में 57 केन्द्रीय मंत्रियों ने जनता के साथ हिस्सा लिया।

राजनाथ सिंह, अरुण जेटली, निर्मला सीतारमण, मुख्तार अब्बास नकवी, मेनका गांधी ने उत्तर प्रदेश में योग दिवस कार्यक्रमों में भाग लिया। गौरतलब है कि प्रदेश में अगले वर्ष विधानसभा चुनाव होने हैं। नागर विमानन मंत्रालय और भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण के सचिव आर. एन. चौधरी सहित करीब 200 अधिकारियों ने राजीवन गांधी भवन में योगासन किए। गुड़गांव की विमानन कंपनी स्पाई-जेट ने विमान में ही चालक दल के 40 सदस्यों के साथ योगासन किया। एम्स के निदेशक एम. सी. मिश्रा सहित डॉक्टरों ने भी योग दिवस मनाया।

इसमें अस्पताल के गैर-मेडिकल कर्मचारियों ने भी हिस्सा लिया। मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा चलाए जाने वाले केन्द्रीय विद्यालयों में भी योग का आयोजन किया गया। कुछ विद्यालयों में अन्य प्रतियोगिताओं का भी आयोजन किया गया। आकाशवाणी और दूरदर्शन ने भी इस अवसर पर विशेष कार्यक्रमों का प्रसारण किया।