close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

विदेश मंत्रालय ने कहा, 'NRC मुद्दे पर बांग्लादेश के साथ लगातार संपर्क में है भारत'

विदेश मंत्रालय ने कहा कि बांग्लादेश के साथ द्विपक्षीय संबंधों पर कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ा है और वे (द्विपक्षीय संबंध) बेहद अच्छे हैं.

विदेश मंत्रालय ने कहा, 'NRC मुद्दे पर बांग्लादेश के साथ लगातार संपर्क में है भारत'
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, ‘एनआरसी का मसौदा आने से पहले और बाद में दोनों ही बार हम बांग्लादेश की सरकार से बेहद करीबी संपर्क में रहे हैं.’ (फोटो साभार -ANI)

नई दिल्ली: भारत ने गुरुवार को कहा कि असम में अवैध आव्रजकों की पहचान करने के लिहाज से तैयार किए गए राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनसीआर) के मसौदे को लेकर वह लगातार बांग्लादेश के संपर्क में था. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि भारत ने बार-बार बांग्लादेश की सरकार को आश्वस्त किया है कि राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) एक मसौदा है जिसे सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर तैयार किया गया है और नागरिकों की पहचान करने की प्रक्रिया अभी जारी है.

रवीश कुमार ने कहा, ‘एनआरसी का मसौदा आने से पहले और बाद में दोनों ही बार हम बांग्लादेश की सरकार से बेहद करीबी संपर्क में रहे हैं.’ उन्होंने कहा, बांग्लादेश की सरकार यह मानती है कि मौजूदा प्रक्रिया भारत का आंतरिक मसला है. उन्होंने कहा कि बांग्लादेश के साथ द्विपक्षीय संबंधों पर कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ा है और वे (द्विपक्षीय संबंध) बेहद अच्छे हैं.

चोकसी के प्रत्यर्पण को लेकर भारत के अनुरोध पर गौर कर रहा है एंटीगुआ
भारत ने आज कहा कि एंटीगुआ और बारबुडा मेहुल चोकसी के प्रत्यर्पण को लेकर उसके अनुरोध पर गौर कर रहा है. चोकसी भारत के सबसे बड़ी बैंकिंग धोखाधड़ी के मामले में वांछित है और वर्तमान में इस कैरेबियाई देश में रह रहा है. विदेश मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी के नेतृत्व में एक भारतीय टीम ने गत तीन अगस्त को एंटीगुआ को चोकसी के प्रत्यर्पण के लिए एक अनुरोध पत्र सौंपा था. चोकसी ने इस द्वीपीय देश की नागरिकता प्राप्त कर ली है.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने इस मुद्दे पर कहा, ‘हमें बताया गया है कि वे (एंटीगुआ के प्राधिकारी) अनुरोध (प्रत्यर्पण) पर गौर कर रहे हैं.’ उन्होंने कहा कि यह कहना अभी जल्दबाजी होगी कि भारत के अनुरोध पर एंटीगुआ के प्राधिकारियों की क्या प्रतिक्रिया होगी.

भारत, चोकसी को एंटीगुआ से उस द्वीपीय देश के एक कानून के प्रावधान के तहत वापस देश लाने का प्रयास कर रहा है जो किसी निर्दिष्ट राष्ट्रमंडल देश में किसी भगोड़े को प्रत्यर्पित करने की बात करता है. पंजाब नेशनल बैंक के दो अरब डालर के घोटाले के सिलसिले में चोकसी विभिन्न आरोपों का सामना कर रहा है.

कुमार ने कहा कि एंटीगुआ और बारबुडा के प्रत्यर्पण कानून, 1993 के तहत किसी भगोड़े को ऐसे किसी निर्दिष्ट राष्ट्रमंडल देश को प्रत्यर्पित किया जा सकता है जिसके साथ सामान्य या विशेष व्यवस्था या एक द्विपक्षीय संधि है.

(इनपुट - भाषा)