एम करुणानिधि का निधन: पीएम मोदी ने कहा, 'हमने एक जननेता, एक महान चिंतक खो दिया'

डीएमके अध्यक्ष एम. करुणानिधि  का मंगलवार की शाम चेन्नई के कावेरी हॉस्पिटल में देहांत हो गया. 

एम करुणानिधि का निधन: पीएम मोदी ने कहा, 'हमने एक जननेता, एक महान चिंतक खो दिया'
पीएम मोदी द्वारा ट्वीट की गई तस्वीर.

नई दिल्ली/चेन्नई: प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी ने डीएमके अध्यक्ष और तमिलनाडु के पूर्व सीएम एम करुणानिधी की मृत्यु पर गहरा शोक व्यक्त किया है. पीएम मोदी ट्विटर पर लिखा, हमने एक जननेता, महान चिंतक, शानदार लेखक और एक मजबूत शख्स खो दिया जिन्होंने पूरी जिंदगी निर्धन और हाशिए पर डाल दिए गए लोगों की सेवा में लगा दिया. 

डीएमके अध्यक्ष एम. करुणानिधि  का मंगलवार की शाम चेन्नई के कावेरी हॉस्पिटल में देहांत हो गया. कई दिनों से उनकी हालत गंभीर बनी हुई थी. हॉस्पिटल के बुलेटिन ने उनकी मृत्यु की पुष्टि की है. करुणानिधि की मौत की खबर सुनते हुए तमिलनाडु में शोक की लहर दौड़ गई है. शाम 6.10 बजे उन्होंने अंतिम सांस ली.

प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया है,‘कलैनार करूणानिधि के निधन से बहुत शोकाकुल हूं। वह भारत के वरिष्ठतम नेताओं में से एक थे। कलैनार करूणानिधि क्षेत्रीय आकांक्षाओं सहित देश की प्रगति के लिए भी खड़े रहे। वह हमेशा तमिलों के कल्याण के प्रति समर्पित रहे और सुनिश्वित किया कि तमिलनाडु की आवाज प्रभावकारी तरीके से सुनी जाए।’

पीएम मोदी ने कहा कि उन्हें कई मौकों पर करूणानिधि से बातचीत करने का मौका मिला और नीतियों की उनकी समझ तथा सामाजिक कल्याण पर उनका जोर, लीक से हटकर था. प्रधानमंत्री ने कहा, वह लोकतांत्रिक विचारों के प्रति समर्पित थे और आपातकाल के खिलाफ उनके कड़े विरोध को हमेशा याद रखा जाएगा.

पीएम मोदी ने लिखा, ‘दुख की इस घड़ी में मेरी संवेदनाएं उनके परिवार के सदस्यों और करूणानिधि जी के असंख्य समर्थकों के साथ हैं। भारत और खास तौर से तमिलनाडु के लोग उन्हें बहुत याद करेंगे। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे.’ 

बता दें कावेरी अस्पताल के कार्यकारी निदेशक डॉक्टर अरविन्दन सेल्वाराज की ओर से जारी विज्ञप्ति के अनुसार, ‘हमें बड़े दुख के साथ बताना पड़ रहा है कि हमारे प्रिय कलैंग्नर एम. करूणानिधि का सात अगस्त, 2018 को शाम छह बजकर दस मिनट पर निधन हो गया. डॉक्टरों और नर्सों की हमारी टीम के सर्वश्रेष्ठ प्रयासों के बावजूद उन्हें बचाया नहीं जा सका.’

विज्ञप्ति के अनुसार,‘हम भारत के कद्दावर नेताओं में से एक के निधन पर गहरा शोक व्यक्त करते हैं और परिवार के सदस्यों तथा दुनिया भर में बसे तमिलवासियों का दुख साझा करते हैं.’

करूणानिधि का रक्तचाप कम होने के बाद 28 जुलाई को उन्हें गोपालपुरम स्थित आवास से कावेरी अस्पताल भेजा गया था. पहले वह वार्ड में भर्ती थे, बाद में हालत बिगड़ने पर उन्हें आईसीयू में भर्ती किया गया.

(इनपुट - भाषा)