close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

नितिन गडकरी को बनाया जाए प्रधानमंत्री: किसान नेता ने RSS प्रमुख को लिखा पत्र

 2019 के लोकसभा चुनाव में अगर बीजेपी को जीत हासिल करनी है तो नितिन गडकरी को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित करना चाहिए.

नितिन गडकरी को बनाया जाए प्रधानमंत्री: किसान नेता ने RSS प्रमुख को लिखा पत्र
किसान नेता किशोर तिवारी ने RSS प्रमुख मोहन भागवत को पत्र लिखकर नितिन गडकरी को प्रधानमंत्री बनाने की मांग की है. फाइल तस्वीर: PTI

जितेंद्र शिंगाडे, नागपुर: विदर्भ के किसान नेता किशोर तिवारी ने प्रधानमंत्री के पद पर नितिन गडकरी को बिठाने की मांग की है. किशोर तिवारी ने कहा कि तीन राज्यों में बीजेपी को मिली हार के बाद प्रधानमंत्री को बदला जाना चाहिए. नितिन गडकरी को प्रधानमंत्री बनाया जाना चाहिए. 2019 के लोकसभा चुनाव में अगर बीजेपी को जीत हासिल करनी है तो नितिन गडकरी को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित करना चाहिए. किशोर तिवारी ने कहा कि मैं राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ (RSS) के हाईकमान से मांग करता हूं कि वे नितिन गडकरी को प्रधानमंत्री घोषित करें.

उन्होंने कहा कि नितिन गडकरी पर 2012 में झूठे आरोप लगाए गए थे, जिसके चलते उन्हें बीजेपी के अध्यक्ष पद से हटाया गया था, लेकिन अब हालात बदल चुके हैं. किशोर तिवारी महाराष्ट्र के वसंतराव नाईक शेतकरी स्वावलंबन मिशन के अध्यक्ष हैं. उन्हें महाराष्ट्र सरकार में राज्यमंत्री का दर्जा है.

किशोर तिवारी ने कहा कि मौजूदा वक्त में बीजेपी के जमीनी कार्यकर्ता नाराज हैं. कार्यकर्ताओं का कहना है कि पार्टी में चापलूसों को प्रोत्साहित किया जा रहा है. बीजेपी को आगामी चुनाव में जीत दर्ज करने के लिए प्रधानमंत्री बदलना जरूरी है. इसके लिए नितिन गडकरी उपयुक्त हैं.


किसान नेता किशोर तिवारी.

किशोर तिवारी ने आरएसएस प्रमुख को लिखे पत्र में कहा है कि बीजेपी का वर्तमान नेतृत्व लोकशाही से दूर चला गया है. आम लोगों की ओर से सलाह देने का प्रयास करने पर उन्हें दुत्कारा जाता है. इससे भाजपा में बहुत से लोग नाराज हैं और इसका असर हाल ही में संपन्न हुए पांच राज्यों के चुनाव पर पड़ा है.

उन्होंने पत्र में लिखा कि जय-पराजय लोकशाही का हिस्सा है, लेकिन पार्टी में नेतृत्व लोकशाही से चलाया जाना जरूरी है. 2014 में नितिन गडकरी की अध्यक्षता में भाजपा को आशातीत सफलता मिली थी. इसलिए भाजपा का नेतृत्व फिर से नितिन गडकरी के हाथों में देना जरूरी है.