PHOTOS: आतंकी लादेन की आज के दिन ही हुई थी मौत की पुष्टि, व्हाइट हाउस के बाहर लगे थे नारे

1 मई की रात अमेरिकी सैनिकों ने चरमपंथी संगठन अल कायदा के तत्कालीन प्रमुख ओसामा बिन लादेन को पाकिस्तान में मार गिराया था. 

ज़ी न्यूज़ डेस्क | May 01, 2020, 11:43 AM IST

नई दिल्ली: 9 साल पहले आज ही के दिन आतंकी ओसामा बिन लादेन (Osama Bin Laden) की मौत की पुष्टि हुई थी. अमेरिकी सेना के कमांडो ने लादेन के सिर और चेहरे पर गोलियां मारी थीं. नौ साल पहले 1 मई 2011 को अमेरिका पर 2001 के हमले के मास्टरमाइंड ओसामा बिन लादेन के पाकिस्तान के ऐबटाबाद में मारे जाने की पुष्टि हुई थी. 1 मई की रात अमेरिकी सैनिकों ने चरमपंथी संगठन अल कायदा के तत्कालीन प्रमुख ओसामा बिन लादेन को पाकिस्तान में मार गिराया था. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, चार अमेरिकी हेलीकॉप्टर्स में विशेष सुरक्षा बल के जवानों ने पाकिस्तानी की राजधानी इस्लामाबाद से महज 120 किमी दूर उत्तर स्थित एबटाबाद शहर में लादेन के घर पर अचानक धावा बोला था. सेना के कमांडो ने लादेन के सिर और चेहरे गोली मारी थीं.

1/4

सिर्फ 40 मिनट चला था अभियान

 सिर्फ 40 मिनट चला था अभियान

सिर्फ 40 मिनट तक चले इस अभियान में 54 वर्षीय ओसामा बिन लादेन को ढेर किया गया था. अमेरिका मानता है कि ओसामा ही 11 सितंबर 2011 को अमेरिका में हुए आतंकी हमले का साजिशकर्ता था.

 

2/4

व्हाइट हाउस में हुआ मौत का ऐलान

व्हाइट हाउस में हुआ मौत का ऐलान

तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा था कि ओसामा बिन लादेन मारा गया. उसका शव बरामद कर लिया गया है. ओबामा ने अमेरिकी समय के अनुसार, रात 11.30 बजे यह ऐलान किया था. जिसके बाद पूरे विश्व में यह खबर सुर्खियां बन गई थी. आधी रात को व्हाइट हाउस के बाहर भारी संख्या में एकत्र लोगों ने ‘यूएसए, यूएसए’ के नारे लगाए थे.

 

3/4

समुद्र में दफन

समुद्र में दफन

माना जाता है कि अमेरिकी अधिकारियों ने ओसामा बिन लादेन के शव को समुद्र में दफन किया था. उन्हें इस बात की आशंका थी कि अगर इस आतंकवादी को जमीन पर दफन किया जाएगा, तो इसके हितैषियों के लिए वह जगह आकर्षण का केंद्र बन जाएगी. अमेरिकी अधिकारियों ने इस बात की कभी पुष्टि नहीं की कि उन्होंने लादेन के शव को कहां दफन किया. 

 

4/4

ढाई करोड़ डॉलर का था इनाम

ढाई करोड़ डॉलर का था इनाम

अमेरिकी अधिकारियों के मुताबिक, ओसामा बिन लादेन के सिर पर 2.5 करोड़ डॉलर का इनाम था. इस अभियान में उसका एक पुत्र और एक महिला भी मारी गई थी.