अलफोंस एरिना में PM मोदी बोले-देश को सरकारें नहीं बल्कि लोग बनाते हैं

ब्रिस्बेन में जी-20 सम्मेलन में शरीक होने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को सिडनी के लिए रवाना हुए। मोदी आज थोड़ी देर में ओलंपिक पार्क के अलफोंस एरिना में भारतीय मूल के हजारों लोगों को संबोधित करेंगे।

अलफोंस एरिना में PM मोदी बोले-देश को सरकारें नहीं बल्कि लोग बनाते हैं

ज़ी मीडिया ब्यूरो/आलोक कुमार राव

सिडनी : ब्रिस्बेन में जी-20 सम्मेलन में शरीक होने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को सिडनी के लिए रवाना हुए। मोदी आज थोड़ी देर में ओलंपिक पार्क के अलफोंस एरिना में भारतीय मूल के हजारों लोगों को संबोधित करेंगे। सिडनी पहुंचने पर पीएम मोदी का घटनाक्रम कुछ इस तरह रहा-

-भारत माता की जय घोष के साथ पीएम मोदी ने अपना संबोधन समाप्त किया।

-अगले साल 2015 में महात्मा गांधी के दक्षिण अफ्रीका से भारत आने के 100 साल पूरे हो रहे हैं। अगले भारतीय प्रवासी दिवस का आयोजन 8-9 जनवरी को अहमदाबाद में हो रहा है। देशवासियों की ताकत के जरिए देश को आगे बढ़ाना चाहते हैं। हमारी कोशिश किसानों-महिलाओं को समृद्ध करने की है। इस देश ने हमें बहुत कुछ दिया है, अब देश के लिए कुछ करने का समय आ गया है। ईश्वर तभी खुश होता है जब हम किसी के काम आते हैं।

-दुनिया अब बाहुबल से नहीं, बुद्धिबल से चलेगी। हम अपने देशवासियों पर विश्वास करें तो माहौल बदलने लगेगा। मेरा ऐसा विश्वास है कि देश सरकार से नहीं लोगों से चलता है। सरकारें देश नहीं बना सकती, बनानी भी नहीं चाहिए। 125 करोड़ लोगों पर भरोसा करना जरूरी। पहले सिर्फ कानून बनते थे और मैं उन कानूनों को खत्म करने में लगा हूं।

- 'Make In India' के जरिए भारत की कोशिश है कि वह पूरी दुनिया को उसकी जरूरतें पूरा करे। हम निवेशकों को बेहतर माहौल देने की कोशिश कर रहे हैं। भारत का रेल नेटवर्क बहुत बड़ा है लेकिन उसमें विकास की जरूरत है। भारत में रेलवे के विकास की अपार संभावनाएं हैं। वर्क फोर्स के लिए मानव संस्थाओं की जरूरत है। कई देशों में वर्क फोर्स की कमी है और इस मामले में भारत सौभाग्यशाली है। आज केवल टेक्नॉलजी से काम नहीं चलेगा उसे वर्क फोर्स चाहिए।

-देश का पीएम आज शौचालय बना रहा है। सफाई कठिन काम है लेकिन इससे दूर क्यों भागे। विदेश में सवच्छता देखकर अपने गली-मोहल्ले की याद आती है। मैंने स्वच्छ भारत मिशन के जरिए सफाई का बीड़ा उठाया। भारत में आज भी गांवों में महिलाएं खुले में शौच करनी जाती हैं। यह बात हमें मन में पीड़ा देती है। गंदगी से बीमारियां फैलती हैं और बीमारी के इलाज में गरीबों का बहुत पैसा बर्बाद हो जाता है। सफाई करना गंदा काम नहीं बल्कि बहुत सम्मानित काम है।

-जो सफाई का काम करता है उसे हम कचरा वाला कहते हैं, यह विडंबना है, हमें यह सोच बदलनी होगी। दीवाली के मौके पर दो कमरे का घर साफ करने में हफ्ता लग जाता है तो पूरे देश की सफाई करने में थोड़ा वक्त तो लगेगा ही।

-सरकार ने जीरो बैलैंस पर खाता खोलने का निर्णय किया लेकिन गरीबों ने अपने बैंक खातों के माध्यम से पांच हजार करोड़ रुपए जमा करा दिए। 10 हफ्ते में 7.1 करोड़ लोगों का बैंकों में खाता खुल गया।

-मुझे तो छोटे-छोटे काम करने हैं। मुझे छोटे लोगों को बड़ा बनाने के लिए काम करने हैं। गरीबों का बैंक में खाता होगा कि नहीं, इस पर संदेह था। लेकिन सरकार ने जन-धन योजना के लिए गरीबों का बैंक में खाता खोला। मैंने रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया से इस बारे में पूछा तो उसने कहा इस काम में तीन साल लगेंगे, जबकि वित्त मंत्रालय ने कहा कि 2 साल लगेंगे। पीएमओ ने कहा कि बैंक खाते खुलवाने में एक साल लगेंगे। लेकिन मैंने 150 दिनों में यह काम कराया। लोग वहीं हैं, व्यवस्था वही है लेकिन हम संकल्प कर लें तो कोई काम मुश्किल नहीं है।

-ऑस्ट्रेलिया में बड़ी संख्या में रहते हैं एंग्लो-इंडियन। टोक्यो ओलंपिक में बख्तावर सिंह ने ऑस्ट्रेलिया की तरफ से खेला। जबलपुर में जन्में एरिक पीयर ने ऑस्ट्रेलिया की तरफ से हॉकी खेली। एंग्लो-इंडियन स्टुअर्ट क्लॉर्क ने क्रिकेट में नाम कमाया। भारतीय मूल के कई लोगों ने ऑस्ट्रेलिया में नाम कमाया।

-भारत के पीएम को यहां पहुंचने में 28 साल लग गए लेकिन मैं विश्वास दिलाता हूं कि अब आपको 28 साल का इंतजार नहीं करना होगा। आस्ट्रेलिया एक खूबसूरत देश है। क्रिकेट ने हमें जोड़ा। अतीत की घटनाओं ने भारत-ऑस्ट्रेलिया को जोड़ा है। लोकतंत्र हम दोनों देशों की धरोहर है।

-अपने सम्मान से अभिभूत हुए मोदी ने कहा कि यह सम्मान, अपनापन, प्रेम मैं सवा सौ करोड़ भारतीयों को समर्पित करता हूं। स्वागत, सम्मान, उमंग, उत्साह का हकदार मोदी नहीं है। यह सब मैं भारत माता के चरणों में समर्पित करता हूं। यह जो नजारा सिडनी में दिखाई दे रहा है, यह नजारा पूरे हिंदुस्तान को आंदोलित कर रहा है।

-पीएम मोदी, ऑस्ट्रेलियाई सांसदों और हजारों लोगों की मौजूदगी में पहले ऑस्ट्रेलिया और फिर भारत का राष्ट्रगान हुआ।

-अलफोंस एरिना में  बनाए गए मंच पर पीएम मोदी पहुंच गए है और उन्होंने हाथ जोड़कर और सिर झुकाकर सबका अभिवादन किया।

-कार्टूनिस्ट रमेश चंद्रा से मिले पीएम मोदी। मंच पर जाने से पहले मोदी ने पूजा-अर्चना की।

-आस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज ब्रेट ली मंच पर पहुंचे और उन्होंने कुछ शब्द कहे।

-न्यू साउथ वेल्स के प्रीमियर माइक बेयर्ड ने अलफोंस एरिना में पीएम मोदी की अगवानी की।

- पीएम मोदी अलफोंस एरिना पहुंचे। यहां मोदी ने मौजूद अपने समर्थकों के साथ तस्वीरें खिंचवाई।

-अलफोंस एरिना के बाहर रोमांच से भरे हजारों की संख्या में पीएम मोदी के प्रशंसक मौजूद हैं। समर्थकों ने झूमते हुए 'मोदी-मोदी' के नारे लगाए।

-आदिवासी नर्तकों ने सिडनी पहुंचने पर मोदी का परंपरागत स्वागत किया। सिडनी में मोदी के छह घंटे का तूफानी दौरा होगा।

-मोदी ने पांच मिनट होटल पुल्लमैन की लॉबी में गुजारे और चार पुरुष नर्तकों का गीत-नृत्य देखा। कुर्सी पर बैठे मोदी ने उनके नृत्य पर तालियां बजाईं और बाद में नर्तकों से हाथ मिलाया। मोदी को नर्तकों से उपहार के रूप में एक बूमरैंग मिला। बूमरैंग एक ऐसा उपकरण है जो फेंकने वाले के पास लौटकर आ जाता है। ऑस्ट्रेलिया के मूल निवासी इसे शिकार के लिए हथियार के रूप में इस्तेमाल करते हैं। बूमरैंग को ऐतिहासिक रूप से शिकार के लिए और खेल तथा मनोरंजन के लिए भी इस्तेमाल किया जाता रहा है।