close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

VIDEO: विश्व की सबसे बड़ी गीता का विमोचन कर पीएम बोले, 'यह दुनिया को सबसे प्रेरक उपहार'

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मंगलवार को दिल्ली के ईस्ट कैलाश में स्थित इस्कॉन मंदिर में विश्व की सबसे बड़ी गीता का विमोचन किया.

VIDEO: विश्व की सबसे बड़ी गीता का विमोचन कर पीएम बोले, 'यह दुनिया को सबसे प्रेरक उपहार'
पीएम ने कहा कि गीता पूरे विश्व की धरोहर है, गीता हजारों साल से प्रासंगिक है.

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मंगलवार को ईस्ट कैलाश के इस्कॉन मंदिर में विश्व की सबसे बड़ी गीता का विमोचन किया. यह गीता 3 मीटर लंबी और 800 किलो की है. इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि भगवत गीता के दिव्य ज्ञान को जन-जन तक पहुंचाने के लिए यह एक अनुपम उदाहरण है. पीएम मोदी ने कहा कि ये अवसर मेरे लिए इसलिए भी खास है, क्योंकि दो दशक पहले अटल जी ने इस मंदिर परिसर का शिलान्यास किया था.

इस्कॉन मंदिर पहुंचने के लिए पीएम मोदी ने दिल्ली के खान मार्केट मेट्रों स्टेशन से मेट्रो की सवारी की. पीएम मोदी को अक्सर ही मेट्रो का सफर करते देखा जाता है. दरअसल, पीएम मोदी को जब भी दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र के किसी कार्यक्रम में जाना होता है तो, वह सड़क मार्ग की जगह मेट्रो की यात्रा से ही यात्रा करते हैं. वहीं, यात्रा के दौरान पीएम मोदी को अपने बीच पाकर सहयात्रियों ने उनके साथ सेल्फी ली.

 

 

विश्व की सबसे बड़ी गीता का विमोचन कर पीएम मोदी ने कहा कि यह दुनिया को सबसे प्रेरक उपहार है. गीता पूरे विश्व की धरोहर है. गीता हजारों साल से प्रासंगिक है.

पीएम मोदी ने कहा, "देश-विदेश की अनेक भाषाओं में श्रीमद् भगवद् गीता का अनुवाद हो चुका है. लोकमान्य तिलक ने जेल में रहकर गीता के रहस्य को भी लिखा है. उन्होंने मराठी में गीता के ज्ञान को लोगों तक पहुंचाया. उन्होंने गीता का गुजराती में भी अनुवाद किया था." पीएम ने कहा, "अगर आप विद्यार्थी हैं और अनिर्णय की स्थिति में हैं, आप किसी देश के राष्ट्राध्यक्ष हैं या फिर मोक्ष की कामना रखने वाले योगी आपको अपने हर प्रश्न का उत्तर श्रीमद् भगवद् गीता में मिल जाएगा." 

पीएम ने कहा, "प्रभु जब कहते हैं कि क्यों व्यर्थ चिंता करते हो, किससे डरते हो, कौन तुम्हें मार सकता है. तुम क्या लेकर आए थे और क्या लेकर जाओगे। तो खुद को राष्ट्र सेवा में समर्पित करने की प्रेरणा अपने आप मिल जाती है."