Bihar Politics: 'लालू का बेटा तेजस्वी 9वीं पास, वो उप मुख्यमंत्री और आपका चपरासी भी नहीं', PK का तंज
topStorieshindi

Bihar Politics: 'लालू का बेटा तेजस्वी 9वीं पास, वो उप मुख्यमंत्री और आपका चपरासी भी नहीं', PK का तंज

Jan Suraj Yatra: प्रशांत किशोर ने जन सुराज पदयात्रा के दौरान बिहार के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव पर तंज कसा है. उन्होंने कहा है कि लालू का लड़का 9वीं पास, वो उप मुख्यमंत्री और आपका लड़का चपरासी भी नहीं.

Bihar Politics: 'लालू का बेटा तेजस्वी 9वीं पास, वो उप मुख्यमंत्री और आपका चपरासी भी नहीं', PK का तंज

Prashant Kishor Taunt: बिहार में इन दिनों प्रशांत किशोर की जन सुराज पदयात्रा चल रही है. इस बीच प्रशांत किशोर ने बिहार के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव पर तंज कसा है. महिलाओं से बात करते हुए प्रशांत किशोर ने कहा है कि लालू जी बेटा 9वीं पास है तो वो उपमुख्यमंत्री है. आप लोगों का लड़का 9वीं पास भी होगा तो चपरासी की भी नौकरी नहीं मिलेगी. प्रशांत किशोर के इस हमले से बिहार की राजनीति गर्मा गई है.

परिवारवाद पर साधा निशाना

बता दें कि जन सुराज पदयात्रा के छठवें दिन आज प्रशांत किशोर पश्चिम चंपारण जिले के जमुनिया से चलकर डूमरापुर पहुंचे. इस दौरान उन्होंने परिवारवाद की राजनीति पर निशाना साधते हुए कहा, 'लालू जी का लड़का 9वीं पास है और वो उप-मुख्यमंत्री है, अगर आपका बच्चा 9वीं पास होगा तो क्या उसे चपरासी की भी नौकरी मिलेगी?" साथ ही उन्होंने पलायन के मुद्दे को प्रमुखता से उठाते हुए कहा कि 6 महीने से 1 साल के भीतर वैसे सभी युवाओं को बिहार वापस लाने का प्रयास करेंगे, जो रोजगार के अभाव में परिवार से दूर रोजी रोटी की तलाश में दिल्ली-मुंबई में काम करते हैं.

युवाओं के साथ खेला कैरम

गौरतलब है कि आज जन सुराज यात्रा की शुरुआत सर्व धर्म प्रार्थना से हुई. इसके बाद पदयात्रियों के साथ प्रशांत किशोर ने स्थानीय युवाओं के साथ कैरम बोर्ड खेला. इसके बाद यात्रा आगे बढ़ते हुए कटराव गांव से धनौजी गांव पहुंची. धनौजी में प्रशांत किशोर ने स्थानीय लोगों को जन सुराज की सोच के बारे में बताया और बिहार को देश के अग्रणी राज्यों की श्रेणी में खड़ा करने के लिए सभी से योगदान देने का आह्वान किया.

'यात्रा वोट मांगने के लिए नहीं'

प्रशांत किशोर ने एक अन्य सभा को संबोधित करते हुए कहा, 'अभी कोई चुनाव नहीं है, मैंने अपना घर परिवार छोड़कर बिहार के गांव-गांव में पैदल चलना शुरू किया है और संकल्प लिया है कि बिहार के सारे गांव-पंचायत में पैदल चल कर जाऊंगा. वोट मांगने के लिए नहीं बल्कि यह बताने के लिए कि जिनको आज तक आप लोग वोट देते हुए आए हैं उन्होंने आपकी स्थिति में कोई बदलाव नहीं किया है. गरीबी है, महंगाई है ,स्वास्थ्य नहीं है, शिक्षा नहीं है. अगर आप अपने और अपने बच्चों की भविष्य की चिंता नहीं करेंगे तो कौन करेगा?'

ये ख़बर आपने पढ़ी देश की नंबर 1 हिंदी वेबसाइट Zeenews.com/Hindi पर

Trending news