close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पुलवामा हमला: शहीदों के परिजनों को एक करोड़ रुपये से अधिक अनु्ग्रह राशि दी गई

अधिकारियों ने बताया कि शहीद जवानों के निकट परिजन को अतिरिक्त अनुग्रह राशि भी मिलेगी, जिसकी घोषणा विभिन्न राज्य सरकारें करेंगी.  

पुलवामा हमला: शहीदों के परिजनों को एक करोड़ रुपये से अधिक अनु्ग्रह राशि दी गई
दिल्ली में पुलवामा हमले के शहीदों को श्रद्धांजलि देते लोग (फाइल फोटो, साभार - PTI)

नई दिल्ली: जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले में पिछले महीने आतंकी हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ के 40 जवानों के परिजनों को सेवा नियमों के मुताबिक अब तक एक करोड़ रुपये से अधिक अनुग्रह राशि दी गई है. केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) ने शुक्रवार को यह जानकारी दी.

अधिकारियों ने बताया कि शहीद जवानों के निकट परिजन को अतिरिक्त अनुग्रह राशि भी मिलेगी, जिसकी घोषणा विभिन्न राज्य सरकारें करेंगी.  बल के एक अधिकारी ने बताया कि 14 फरवरी को पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए 40 जवानों के परिवारों को कुल 1. 01 करोड़ रूपये अदा किए गए हैं. 

उन्होंने बताया कि इस राशि में केंद्र सरकार द्वारा ड्यूटी पर शहीद हुए केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (सीएपीएफ) कमिर्यों को 35 लाख रुपया, जोखिम कोष से 21. 50 लाख रुपया और 'भारत के वीर’ कोष से 15 लाख रुपया तथा एसबीआई अर्द्धसैनिक सेवा भुगतान बीमा कवर से 30 लाख रुपया शामिल है. उन्होंने कहा कि शहीदों के परिवारों को विभिन्न सरकारी एवं गैर सरकारी एजेंसियों से भी वित्तीय सहायता मुहैया करायी जा रही हैं, यहां तक कि कुछ संस्थाओं ने इन कर्मियों के बच्चों की शिक्षा का खर्च उठाने की जिम्मेदारी भी ली है. 

सभी 40 परिवारों को एलपीए दिया जा रहा है
अधिकारी ने बताया कि सभी 40 परिवारों को ‘लिबरेलाइज्ड पेंशन अवार्ड’ (एलपीए) दिया जा रहा है और यह रकम शहीद जवान को मिले अंतिम मूल वेतन एवं महंगाई भत्ता के बराबर है. 

उन्होंने कहा कि कुछ मामलों में शहीद कर्मी के निकट परिजन को राज्य सरकारों ने नौकरी की पेशकश की है, वे सीआरपीएफ में अनुकंपा के आधार पर भी रोजगार पा सकते हैं.  उन्होंने कहा कि बल जल्द ही एक विशेष मोबाइल एप पेश करने जा रहा है जिसे बल के शहीद कर्मियों के परिजनों की शिकायतों के निवारण के लिए तैयार किया गया है. 

गौरतलब है कि 14 फरवरी को पुलवामा आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे. इस आत्मघाती हमले की जिम्मेदारी आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद ने ली थी.  सीआरपीएफ ने जम्मू कश्मीर में करीब 61 बटालियनें तैनात की हैं, जिनमें लगभग 65,000 कर्मी हैं.