close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भरतपुर: पिता की राह पर कुंवर अनिरुद्ध, कुछ ऐसे कर रहे जनता का दिल जीतने की कोशिश

कुंवर अनिरुद सिंह के सोशल मीडिया पर भी काफी संख्या में फॉलोवर्स है. उनका एक फेसबुक पेज भी अनिरुद भरतपुर के नाम से है, जिस पर वह अपने सभी कार्यक्रम लोगों से शेयर करते हैं. 

भरतपुर: पिता की राह पर कुंवर अनिरुद्ध, कुछ ऐसे कर रहे जनता का दिल जीतने की कोशिश
कुंवर अनिरुद सिंह के सोशल मीडिया पर भी काफी संख्या में फॉलोवर्स है.

भरतपुर/ देवेन्द्र सिंह: राजस्थान की भरतपुर रियासत के युवराज कुंवर अनिरुद्ध सिंह अब भरतपुर जिले की सियासत के भी युवराज बनते दिखाई दे रहे है. जिसके संकेत उन्होंने सार्वजिनक कार्यक्रमों में शिरकत करते हुए दी है. पहले जहां वह राजपरिवार के कार्यक्रमों में ही नजर आते थे लेकिन अब वह पिता द्वारा बनाए गए कार्यालय में नियमित जनसुनवाई कर रहे हैं, लोगों से मिल रहे हैं सामाजिक व राजनीतिक कार्यक्रमों में शिरकत कर रहे है. 

यह कहना गलत नहीं होगा कि अब वह लोगों को अपने साथ जोड़ने की दिशा में काम कर रहे हैं. राजनीति से दूर रहने वाले पर्यटन व देवस्थान मंत्री विश्वेन्द्र सिंह के पुत्र कुंवर अनिरुद्ध सिंह आजकल अपना पूरा ध्यान राजनीति पर ही केंद्रित कर रहे हैं. यह कहना गलत नहीं होगा कि वह अपने पिता विश्वेन्द्र सिंह की अगुवाई में राजनीति का क ख ग सीख रहे हैं.

यही वजह है कि महज 28 साल के कुंवर अनिरुद्ध सिंह अब भरतपुर के विकास के लिए सबको साथ लेने की बात करते हैं और खुद को भी कांग्रेसी बताने लगे हैं लेकिन अब यह कहने लगे हैं कि जनता ने जिसको सत्ता की चाबी सौंपनी थी वह राजस्थान में सौंप दी अब विकास के लिए सभी दलों के विधायकों को भरतपुर में एक साथ बैठना होगा. 

जिसकी पहल भी उन्होंने गत दिनों बसपा व आरएलडी के नेताओं के साथ मीटिंग करके की है. यही नहीं कुंवर अनिरुद्ध सिंह ने यह संकेत दे दिए हैं कि आने वाले आम चुनावों में वह पिता की तरह ही चुनाव लड़ेंगे. विधायक बनने से पहले वह नेता बनने के सफर की ओर आगे बढ़ गए हैं. जिसकी बानगी यह है कि वह अपने पिता विश्वेन्द्र सिंह की तरह डीग-कुम्हेर क्षेत्र में लोगों के बीच पहुंच उनकी समस्या सुनते हैं और अधिकारियों से मिलकर उनका समाधान भी करवाते हैं.

कुंवर अनिरुद सिंह का लॉ प्रोफाइल रहना उन्हें युवाओं में खासा लोक प्रिय बना रहा है. वह खुद अपनी कार ड्राईव करते हैं और बिना किसी सुरक्षा के अकेली ही पब्लिक के बीच पहुंच जाते हैं. जनता से सीधा व सरल होकर विनम्र होकर बात करना उन्हें बहुत ही परिपक्व राजनेता बनाता है. विदेश में रहकर पढ़ाई करने वाले कुंवर अनिरुद सिंह ने लंदन की मशूहर यूनिवर्सिटी यूसीएल से एमबीए की डिग्री है लेकिन वहां सीखी हुई स्किल्स का उपयोग वह व्यवसाय के स्थान पर राजनीति में कर रहे हैं. 

कुंवर अनिरुद सिंह के सोशल मीडिया पर भी काफी संख्या में फॉलोवर्स है. उनका एक फेसबुक पेज भी अनिरुद भरतपुर के नाम से है, जिस पर वह अपने सभी कार्यक्रम लोगों से शेयर करते हैं. फर्राटेदार अंग्रेजी बोलने वाले कुंवर अनिरुद सिंह जब आम लोगों के बीच होते हैं तो वह बहुत सहज होते है कैजुअल कपड़े पहनते हैं और भरतपुर की लोकल लेंग्वेज में उनसे बात करते है.

महाराजा सूरजमल की 15 वीं पीढी के रूप में कुंवर अनिरुद सिंह उनका वंशज होने पर खुद को बहुत भाग्यशाली मानते हैं. साथ ही वह सभी धर्मों का भी सम्मान करते है. वह भले ही जाट रियासत के युवराज हों लेकिन वह राजनीति का युवराज बनने के लिए एक ही जाति में बंध कर नहीं रहना चाहते हैं. भरतपुर जिले में चर्चा है कि आने वाले समय मे उनको कांग्रेस संघटन में कोई बड़ी जिम्मेदारी मिल सकती है.