close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: बजट को बीजेपी नेताओं ने बेरोजगारों और किसानों के साथ बताया छलावा

बजट पर बीजेपी नेताओं ने निराशाजनक बताते हुए कहा कि बजट प्रदेश के गरीब, किसान एवं युवा बेरोजगारों के साथ छलावा है. 

राजस्थान: बजट को बीजेपी नेताओं ने बेरोजगारों और किसानों के साथ बताया छलावा
राजे ने कहा गहलोत सरकार से आमजन को काफी उम्मीदें थीं. (फाइल फोटो)

जयपुर: 10 जुलाई को राजस्थान विधानसभा में गहलोत सरकार का पहला बजट पेश हुआ. बजट पर बीजेपी नेताओं ने निराशाजनक बताते हुए कहा कि बजट प्रदेश के गरीब, किसान एवं युवा बेरोजगारों के साथ छलावा है. 

राजस्थान की पूर्व सीएम वसुंधरा राजे ने ट्वीट कर गहलोत सरकार के बजट पर अपनी प्रतिक्रिया दी. राजे ने अपनी ट्वीट में कहा कि चुनाव से पहले कई लोकलुभावने वादे कर सत्ता में आई कांग्रेस सरकार का पहला बजट काफी निराशाजनक है. मुख्यमंत्री जी ने हताश मन से सदन में बजट की औपचारिकताएं पूरी की है, जिसके बाद राजस्थान का आम आदमी अब स्वयं को ठगा महसूस कर रहा है.

राजे ने अपनी एक अन्य ट्वीट में कहा कि किसानों को सम्पूर्ण कर्जमाफी, युवाओं को 3500 रु बेरोजगारी भत्ता जैसे सपने दिखाने वाली गहलोत सरकार से आमजन को काफी उम्मीदें थीं. लेकिन इस बजट में ऐसी कोई नीति नहीं है जिससे राजस्थान के निम्न व मध्यम वर्ग का जीवन स्तर बेहतर हो सके व युवाओं के सपने साकार हों.

केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने राजस्थान के बजट को निराशाजनक बताया है. उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार का बजट महज घोषणाओं का पुलिंदा बनकर रह गया है. शेखावत ने कहा कि पूर्ववर्ती सरकार की योजनाओं का नाम बदलकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपनी मानसिकता प्रदर्शित कर दी है.

शेखावत ने कहा कि किसानों के ऋण माफी की घोषणा तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी की थी. लेकिन उस पर अमल नहीं कर कर किसानों के साथ धोखा किया गया है. उन्होंने कहा कि ईस्टर्न कैनाल परियोजना का प्रस्ताव केंद्र को भेजने की बात मुख्यमंत्री ने की. लेकिन बजट में उसके लिए वित्तीय आवंटन नहीं किया.

बीजेपी के पूर्व पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अरूण चतुर्वेदी ने बुधवार को जयपुर में जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा कि यह बजट निराशाजनक है, जिसमें किसानों की पूर्ण कर्जमाफी एवं बेरोजगार युवाओं को बेरोजगारी भत्ता का कहीं जिक्र नहीं है. इसके अलावा बजट में महिलाओं को नजरअंदाज किया गया है. इसके साथ इस बजट में शहीद परिवारों से एक सदस्य को नौकरी देने के लिए कोई प्रावधान नहीं किया गया है. बजट की आड़ में पेट्रोल-डीजल पर गुपचुप तरीके से वेट बढ़ा दिया गया है.

वहीं, बीजेपी नेता अशोक परनामी ने बजट को राजस्थान का विकास अवरुद्ध करने वाला बताया है. परामानी ने आरोप लगाया कि सीएम स्वयं की वित्तीय अक्षमता को दूसरी सरकारों पर डाल रहे है. परमानी ने इस बजट को ‘घोषणाओं का पिटारा’ बताया.

बीजेपी के प्रदेश उपाध्यक्ष सुनील कोठारी ने बजट पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी ने अपने घोषणा पत्र में कृषि यंत्रों एवं ट्रैक्टर पर से जीएसटी हटाने की घोषणा की थी, जिसे बजट में कहीं लागू नहीं किया गया है. साथ ही महिलाओं के विरूद्ध हो रहे अपराधों को रोकने के लिए भी बजट में कुछ नहीं किया.