close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान में रिफायनरी प्रोजेक्ट को लेकर सीएम गहलोत ने की बैठक, नए मॉडल पर की चर्चा

सड़क के दोनों तरफ पार्किंग होटल रेस्टोरेंट चालकों के लिए विश्राम की सुविधाएं विकसित की जाए. सीएम ने कहा कि बालोतरा से पचपदरा तक रेल सुविधा विकसित करने के प्रयास किए जाएं.

राजस्थान में रिफायनरी प्रोजेक्ट को लेकर सीएम गहलोत ने की बैठक, नए मॉडल पर की चर्चा
फाइल फोटो

जयपुर: राजस्थान सरकार के सबसे महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट में से एक रिफायनरी को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शुक्रवार को समीक्षा बैठक की. इस बैठक में सीएम ने कहा, यह रिफाइनरी राज्य की सबसे महत्वपूर्ण परियोजना है. इसे एक मॉडल के तौर पर विकसित किया जाएगा. बैठक में सीएम ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि पचपदरा और जोधपुर में रिफाइनरी के आसपास कौशल विकास केंद्र की स्थापना की जाए.

रिफाइनरी क्षेत्र में एक आईटीआई भी स्थापित की जाए, जिससे युवाओं को पेट्रोकेमिकल से जुड़े उत्पादों के निर्माण से संबंधित गाइडेंस और प्रशिक्षण मिल सके. सीएम ने यह भी कहा कि रिफाइनरी के आसपास के क्षेत्र को भी विकसित किया जाए इससे रोजगार के बेहतर अवसर युवाओं को मिल पाएंगे. बैठक में इस बात पर भी जोर दिया गया कि रिफाइनरी में बड़ी संख्या में लोग काम करेंगे लिहाजा स्थानीय निवासियों की सुविधा का पूरा ख्याल रखा जाए. 

वहां टाउनशिप विकसित करने के साथ सभी सुविधाओं से युक्त अस्पताल और स्कूल की स्थापना भी हो. मुख्यमंत्री ने बैठक में अधिकारियों को यह भी निर्देशित किया कि जोधपुर बाड़मेर हाईवे के बीच भारी यातायात बढ़ेगा इसे देखते हुए राष्ट्रीय राजमार्ग जोधपुर बाड़मेर नेशनल हाईवे पर सुविधाएं बनाना बेहद जरूरी है. सड़क के दोनों तरफ पार्किंग होटल रेस्टोरेंट चालकों के लिए विश्राम की सुविधाएं विकसित की जाए. सीएम ने कहा कि बालोतरा से पचपदरा तक रेल सुविधा विकसित करने के प्रयास किए जाएं.

बैठक में एचपीसीएल के सीएमडी ने प्रगति रिपोर्ट रखते हुए कहा कि 2022 तक इस लक्ष्य को हासिल करने का प्रयास किया जा रहा है. इसके निर्माण में करीब 40 हजार लोगों को प्रत्यक्ष तौर पर और करीब 60 हजार लोगों को अप्रत्यक्ष तौर पर रोजगार के अवसर मिल सकेंगे. उन्होंने यह भी बताया कि निर्माण में अब तक करीब 10000 करोड रुपए के टेंडर जारी हो चुके हैं और 1348 करोड़ खर्च किए जा चुके हैं.  

वहीं समीक्षा बैठक से पहले मुख्य सचिव डीबी गुप्ता ने भी रिफाइनरी टास्क फोर्स की अहम बैठक ली. उन्होंने कहा कि बाड़मेर में लगने वाली बहुप्रतिक्षित रिफायनरी का काम 2023 तक होगा पूरा और इस साल दिसंबर तक रिफाइनरी का निर्माण शुरू हो जाएगा.

सीएस डीबी गुप्ता ने कहा कि रिफायनरी का काम अब तक तय लक्ष्य के मुताबिक चल रहा है और इस साल रिफायनरी प्रोजेक्ट पर  3000 करोड़ रुपए खर्च होंगे. एचपीसीएल कंपनी इस साल अप्रैल से अब तक 182 करोड़ खर्च कर चुकी है. रिफायनरी के लिए बालोतरा से पचपदरा तक रेल लाइन बिछाने पर बनी सहमति बनी है और बाड़मेर कलेक्टर को इसके लिए अलाइनमेंट तैयार करने के निर्देश दे दिए गए हैं.